अग्निपथ योजना: उत्तर प्रदेश के 20 जिलों में 64 एफआईआर, 1120 गिरफ्तार

0
14


लखनऊ. अग्निपथ योजना के खिलाफ उपद्रव करने वालों की गिरफ्तारी का दौर जारी है. प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ सरकार की सख्ती के बाद पुलिस उपद्रवियों की कुंडली खंगाल रही है. यूपी के 20 जिलों में 64 एफआईआर दर्ज की गईं हैं. यूपी में अब तक कुल 1120 की गिरफ्तारी की जा चुकी है. अन्य आरोपियों की पहचान भी की जा रही है और पहचान होते ही उन पर एक्शन होगा.

सेना में भर्ती के लिए केन्द्र सरकार हाल ही में अग्निपथ योजना लेकर आई है. योजना में चार साल के लिए अग्निवीरों की भर्ती किए जाने को लेकर कई क्षेत्रों में इसको लेकर नाराजगी देखी गई और इसको लेकर विरोध प्रदर्शन होने लगा. कई जगह उपद्रव होने के मामले में पुलिस ने एफआईआर दर्ज की. यूपी के 20 जिलों में 64 एफआईआर दर्ज की गईं और इसमें 502 आरोपियों को मुकदमों में गिरफ्तार किया गया. इसके साथ 618 को धारा 151 में चालान किया गया.

यूपी के इन जिलों में दर्ज किए गए हैं मामले
अग्निपथ योजना के खिलाफ जिन जिलों में प्रदर्शन हुआ है उनमें फिरोजाबाद, नोएडा, गोरखपुर, संतकबीरनगर, फिरोजाबाद, मैनपुरी, अयोध्या, सुल्तानपुर, मऊ, फतेहगढ़ में एक-एक एफआईआर दर्ज की गई. बलिया, आगरा, हरदोई, गाजीपुर में दो-दो मामले दर्ज हुए और देवरिया में तीन, मिर्ज़ापुर में चार, मथुरा में पांच, अलीगढ़ में छह, चंदौली में सात, वाराणसी कमिश्नरेट में नौ, जौनपुर में 11 एफआईआर दर्ज की गईं हैं.

सीएम योगी ने कहा नौजवानों को भटका रहा विपक्ष
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को गोरखनाथ मंदिर में आयोजित जनता दर्शन के दौरान युवाओं का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि सिर्फ केंद्र की मोदी सरकार का विरोध करने वाले राजनीतिक दल ही इस अति महत्वपूर्ण और अवसरप्रदायी योजना का तथ्यहीन और तर्कहीन प्रलाप कर देश के नौजवानों को बरगला रहे हैं. जबकि देश की सेवा को सर्वोच्च प्राथमिकता देने वाले सेना के वर्तमान और पूर्व सैनिक-अधिकारी इसे अभूतपूर्व कदम मान रहे हैं. सीएम योगी ने युवाओं को बताया कि यह कहना कि अग्निवीरों को भविष्य असुरक्षित रहेगा, वह चार साल की सेवा के बाद किसी काम लायक नहीं रह जाएंगे, समाज के लिए खतरा बन जाएंगे, यह क्षुद्र विचार है.

Tags: Agnipath scheme, Lucknow news, UP news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here