अयोध्या में 2023 में होगा मस्जिद निर्माण, मस्जिद के साथ कई और भी सहूलियतें होंगी यहां

0
22


सर्वेश श्रीवास्तव

अयोध्या. नौ नवंबर, 2019 को देश ही नहीं, बल्कि पूरे विश्व की निगाहें उत्तर प्रदेश के अयोध्या पर टिकी हुई थीं. इस दिन सैकड़ों साल से चले आ रहे राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद के विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया था. सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि परिसर पर रामलला के पक्ष में फैसला सुनाया था. तो वहीं, मुस्लिम समुदाय के लिए जिला मुख्यालय से 25 किलोमीटर दूर धनीपुर में पांच एकड़ जमीन मस्जिद निर्माण के लिए दिया था.

राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद दोनों पक्षों की ओर से फैसले का स्वागत किया गया. यही कारण है कि, राम जन्मभूमि पर अब भगवान  राम के भव्य मंदिर का निर्माण हो रहा है. तो वहीं, मस्जिद निर्माण को लेकर अभी कार्य शुरू नहीं हुआ है. इंडो इस्लामिक कल्चर फाउंडेशन ट्रस्ट का दावा है कि वर्ष 2023 में मस्जिद का निर्माण शुरू हो जाएगा. यहां मस्जिद के अलावा पांच एकड़ की जमीन में कई अन्य सुविधाएं भी होंगी.

आपके शहर से (अयोध्या)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

एक साथ 2,000 नमाजी होंगे शामिल
इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ट्रस्ट के सदस्य अरशद अफजाल बताते हैं कि सरकार ने जो जमीन दी है उस पर हमारी बहुत ही महत्वकांक्षी योजना है. उस जमीन पर सबसे पहले एक मस्जिद का निर्माण होगा जिसमें एक साथ दो हजार नमाजी नमाज पढ़ सकेंगे. साथ ही इस मस्जिद में खास बात यह भी है कि बाबरी मस्जिद से यह मस्जिद नहीं मिलेगा, और न ही उसका नाम इससे जुड़ा होगा. हमलोगों ने उसका नाम ‘मस्जिदे-ए-अयोध्या’ सोचा है. हालांकि, अभी यह नाम ट्रस्ट के पास है. अभी यह नाम फाइनल नहीं हुआ है.

मेदांता की तर्ज पर बनेगा अस्पताल 
न्यूज़ 18 लोकल से बातचीत में अरशद अफजाल ने बताया कि मस्जिद के साथ ही 300 बेड का कैंसर अस्पताल होगा जहां एकदम मुफ्त इलाज होगा. यह चैरिटेबल की तर्ज पर काम करेगा. इसमें हर तरह की सुविधा होगी जो कैंसर के मरीजों को दी जाती है. लखनऊ के मेदांता अस्पताल की तर्ज पर इसको बनाया जाएगा. इस इलाके में कोई कैंसर अस्पताल नहीं है. इस नाते ट्रस्ट ने यह प्रस्ताव रखा है.

उन्होंने जानकारी देते हुए यह भी बताया कि मस्जिद में एक रिसर्च सेंटर होगा. जिसमें खास बात रहेगी कि इस रिसर्च सेंटर में जो लोग पढ़ेंगे वो इस बात का रिसर्च करेंगे कि मुस्लिम समाज का राष्ट्र निर्माण में क्या योगदान रहा है. वर्ष 1857 के जंग-ए-आजादी से लेकर आज तक. इसके अलावा यह भी बताया जाएगा कि देश से मोहब्बत करना है, आपसी भाईचारा कायम करना है.

हजारों लोग एक साथ करेंगे भोजन
यह पूरा प्रोजेक्ट एक तरह से विंडो ऑफ इस्लाम होगा जिसमें एक कम्युनिटी किचन होगा. इसमें एक हजार लोग वेजिटेरियन खाना खाएंगे. यहां निशुल्क भोजन दिया जाएगा. यह बाहर से आने वाले लोगों और हॉस्पिटल के मरीजों को भी दिया जाएगा.

Tags: Ayodhya News, Ayodhya ram mandir, Ayodhya Ram Temple, Mosque, Up news in hindi



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here