ऑक्‍सीजन संकट पर सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने केन्‍द्र को कहा, जिंदगी दांव पर लगी है और आप कह रहे हैं इमोशनल नहीं होना चाहिए

0
19


दिल्ली में ऑक्सीजन की किल्लत पर हाईकोर्ट में सुनवाई

Oxygen Crisis in Delhi: द‍िल्‍ली हाईकोर्ट ने राजधानी में ऑक्‍सीजन की कमी मामले की सुनवाई के दौरान केन्‍द्र सरकार को फटकार लगाते हुए कहा क‍ि आप लोग क्या प्लान कर रहे है? एक सप्ताह-दो सप्ताह हो गया है और लोग ऑक्सीजन के लिए रो रहे है. पूरा देश रो रहे है.

दिल्ली में ऑक्सीजन की किल्लत पर हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान कोर्ट द्वारा नियुक्त किए गए सलाहकार ने कोर्ट को बताया कि अगले 3-4 दिनों के दौरान दिल्ली को 480 से 520 मेट्रिक टन ऑक्सीजन मिलनी शुरू हो जाएगी और उम्मीद की जा रही है कि अगले 1 हफ्ते के दौरान यह बढ़कर 550 से 600 मेट्रिक टन हो जाएगी. दिल्ली सरकार के वकील ने कहा कि फिलहाल ऑक्सीजन सिलेंडर रिज़र्व तैयार करने की योजना पर काम चल रहा है. जब रिज़र्व तैयार हो जाएगा तो फिर लोगों की दिक्कत भी कम होगी. ऐसे में जब हमारे पास सिलेंडर और ऑक्सीजन दोनों होंगे तो हम लोगों को जरूरत के हिसाब से ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया करा पाएंगे. हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा कि समस्या यह है कि आपकी सभी नीतियां और निर्णय संबंधित विभागों से सलाह या बात किए बिना लिए जा रहे हैं, अगर आप उनसे बात करेंगे को आपको पता चलेगा क्या हो रहा है?

दिल्ली हाई कोर्ट ने नाराजगी जाहिर करते हुए केंद्र से कहा कि आईआईटी और आईआईएम ऑक्सीजन टैंकर के मैनजमेंट का काम आप से बेहतर तरीके से करेंगे, उन्हें हैंडओवर कर दीजिए.

दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा क‍ि जब लोग मर रहे हैं तो ये एक भावनात्मक मामला है. आप इस पर अंधे हो सकते हैं हम अपनी आंखें बंद नहीं कर सकते. ये दुखद है कि दिल्ली में ऑक्सीजन के अभाव में लोगों की जान जा रही है. आप इतने असंवेदनशील कैसे हो सकते हैं.

कोर्ट ने कहा क‍ि दिल्ली सरकार कह रही है वो सिर्फ बयानबाजी नहीं है. दरअसल, दिल्ली सरकार ने कहा था कि केंद्र को 590 MT ऑक्सीजन देनी है, लोग मर रहे हैं. इस पर एएसजी चेतन शर्मा ने कहा कि बयानबाजी में नहीं आना चाहिए.

हाई कोर्ट ने कहा कि आप लोग क्या प्लान कर रहे है? एक सप्ताह-दो सप्ताह हो गया है और लोग ऑक्सीजन के लिए रो रहे है. पूरा देश रो रहे है.

दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र और दिल्ली सरकार दोनों पर नाराजगी जाह‍िर करते हुए कहा क‍ि यहां जिंदगी दांव पर लगी है और आप कह रहे है कि इमोशनल नहीं होना चाहिए. दरअसल, केंद्र सरकार के वकील ने कहा कि इमोशनल नहीं होना चाहिए.

दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र को फटकार लगाते हुए कहा यह भवनात्मक मामला है. लोगों की जान जा रही है. केंद्र सरकार के वकील ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में आज हम दिल्ली में ऑक्सीज़न की सप्लाई को लेकर अनुपालन रिपोर्ट दाखिल करेंगें, हम इसमें नहीं जाएंगे कि क्या 700 MT की आपूर्ति करनी है या उससे कम.

हाईकोर्ट में केंद्र सरकार ने कहा 433 MT ऑक्सीज़न दिल्ली में कल रात तक पहुंची और आज सुबह 8:07 भेज 307 MT ऑक्सीज़न पहुंची हमको लगता है शाम तक के लिए यह बहुत होगी.

ऑक्सीज़न निर्माता कंपनी ने कहा क‍ि उनकी मशीन समय से ज़्यादा चल रही है, स्टाफ की कमी हो गई, स्टाफ की कमी की वजह से कंपनी बंद होने के कगार पर है. अर्धसैनिक बलों को वहां लगाया जाना चहिए. दिल्ली सरकार के अधिकारियों को वहां जा कर रिपोर्ट पेश करनी चाहिए.

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा क‍ि आप एक दो अधिकारी वहां भेज सकते हैं. वह देख सकते हैं कि टैंकर कहा जा रहे हैं कब जा रहे हैं, कब आ रहे हैं.

दिल्ली सरकार ने कहा कि हम सेट एयर की मदद कर रहे हैं. उनको मजबूत होना होगा उनको दिल्ली के लोगों के लिए काम करना होगा. हाईकोर्ट ने केंद्र से कहा कि अगर महाराष्ट्र में ऑक्सीज़न की खपत अभी कम है तो कुछ टैंकर को दिल्ली डाइवर्ट किया जा सकता है.



<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here