कानपुर: GSVM मेडिकल कॉलेज में लगी ऐसी खास मशीन, जिससे गरीब मरीजों को मिलेगा फायदा

0
47


रिपोर्ट: अखंड प्रताप सिंह

उत्तर प्रदेश के कानपुर में बनकर तैयार हुए जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में जहां मरीजों को सुपर स्पेशलिटी इलाज मिल रहा है, तो वहीं अब गरीब मरीजों के लिए यहां पर बेहद कम रुपयों में महंगे कैथेटर और बैलून भी उपलब्ध कराए जाएंगे. जी हां, आईआईटी कानपुर ने सीयूजीएल के सीएसआर फंड से जीएसवीएम के लिए एक अत्याधुनिक स्टरलाइजेशन मशीन बनाकर तैयार की है, जो ना सिर्फ मेडिकल कचरे में कमी लाएगी बल्कि महंगे मेडिकल उपकरणों को दोबारा इस्तेमाल करने योग्य भी बनाएगी.

महंगे कैथेटर ₹25 में दोबारा यूज करने योग्य होंगे
जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल प्रोफेसर संजय काला ने न्यूज़ 18 लोकल से विशेष बातचीत में बताया कि इस मशीन का लाभ सीधे गरीब मरीजों को होगा. यह मशीन गरीबों के लिए वरदान साबित होगी, क्योंकि न्यूरो सर्जरी यूरोलॉजी और अन्य सर्जरी में कैथेटर और बैलून का इस्तेमाल होता है. इनकी कीमत ₹9000 से ₹90,000 तक होती है. ऐसे में अब इस मशीन से इन कैथेटर को दोबारा इस्तेमाल करने योग्य बनाया जा सकेगा. इसमें सिर्फ ₹25 का खर्चा आएगा, जिसके बाद कैथेटर को फिर से इस्तेमाल में लाया जा सकेगा.

जानें मशीन कैसे करेगी काम
यह मशीन इस्तेमाल हो चुके कैथेटर को पहले कीटाणु रहित करेगी. इस मशीन के अंदर कई केमिकल हैं, जो कीटाणुओं को साफ करेंगे. इसके बाद इसको सभी बैक्टीरिया और वायरस से मुक्त किया जाएगा. इस मशीन में एक बार में 12 कैथेटर और 8 बैलून साफ किए जा सकते हैं. इतना ही नहीं यह मशीन स्टरलाइजेशन के दौरान खराब बैलून और कैथेटर की कमी को भी पकड़ लेगा. इससे पहले स्टरलाइजेशन मशीन का इस्तेमाल दिल्ली, मुंबई, चंडीगढ़ के हॉस्पिटल्स में भी किया जा रहा है.

जीएसवीएम पीजीआई में मिल रही है मरीजों को कई सुविधाएं
आपको बता दें कि प्रधानमंत्री स्वास्थ्य मिशन योजना के तहत जीएसवीएम सुपर स्पेशलिटी अस्पताल बनकर तैयार हुआ है. यहां लोगों को बेहद कम दामों में सुपरस्पेशलिटी इलाज मिल रहा है.यह अभी शुरुआती चरण में है. यहां पर अभी ओपीडी और कुछ विभागों की सर्जरी शुरू हो गई हैं, आगे के चरणों में अन्य विभागों में भी ओपीडी सेवा शुरू की जाएगी.

Tags: Kanpur news, Uttar pradesh news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here