कोरोना के भयावह हालात के बीच जूनियर डॉक्टर्स ने दी हड़ताल की चेतावनी, कोविड पेशेंट्स नहीं देखेंगे

0
22


जूडा 6 मई से हड़ताल की तैयारी में है.

BHOPAL. जब कोरोना अपने विकराल रूप में है ऐसे समय प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों के जूनियर डॉक्टर्स अपनी मांगें मनवाने पर अड़े हैं. यहां तक कि उन्होंने कोविड पेशेंट्स न देखने की भी धमकी सरकार को दे दी है.

भोपाल. कोरोना आपदा (Corona crisis) के बीच मध्य प्रदेश में जूनियर डॉक्टर्स की एक बार फिर हड़ताल की आहट सुनाई दे रही है. जूनियर डॉक्टर्स (Juda) ने सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा है इस बार अगर उनकी मांगों पर लिखित आदेश जारी नहीं हुए तो फिर 6 मई से वो इमरजेंसी सेवाएं रोक देंगे. इतना ही नहीं 7 तारीख से कोविड मरीजों के इलाज से भी जूनियर डॉक्टर्स ने इनकार कर दिया है. इससे पहले जूनियर डॉक्टर्स ने अपनी मांगें पूरी न होने पर 5 अप्रैल को हड़ताल की चेतावनी दी थी.  सरकार की ओर से आश्वासन मिलने और कोरोना के बिगड़ते हालात को देखते हुए उन्होंने ये हड़ताल टाल दी थी. लेकिन एक बार फिर जूनियर डॉक्टर्स असोसिएशन ने मांगें पूरी न होने पर हड़ताल की चेतावनी दी है. सरकार ने की थी बातचीत की पहल इससे पहले जब जूनियर डॉक्टर्स ने हड़ताल की चेतावनी दी थी तो सरकार की ओर से बातचीत की पहल की गई थी. खुद चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग जूनियर डॉक्टर्स से मिलने हमीदिया हॉस्पिटल गए थे और उन्हें ये भरोसा दिया था कि सरकार जल्द उनकी मांगों पर फैसला लेगी. करीब महीने भर तक मांगें पूरी नहीं होने पर जूनियर डॉक्टर्स एक बार फिर हड़ताल की चेतावनी दे रहे हैं.

कोरोना के भयावह हालात के बीच जूनियर डॉक्टर्स ने दी हड़ताल की चेतावनी, कोविड पेशेंट्स नहीं देखेंगे

क्या हैं जूडा की मांगें ? जूनियर डॉक्टर्स ने सरकार के सामने पांच सूत्रीय मांगें रखी थीं और यह आरोप लगाया था कि इनमें से कुछ मांगें तो ऐसी हैं जिनका वायदा खुद मुख्यमंत्री की ओर से किया गया था. उन्हें एक साल बीत जाने के बाद भी पूरा नहीं किया गया है.
सरकार की ओर से 6% सालाना मानदेय बढ़ाने का वायदा पूरा किया जाए जूनियर डॉक्टरों के इलाज की बेहतर व्यवस्था की जाए कोरोना के दौरान प्रति महीने 10 हज़ार रुपये मानदेय देने का वायदा पूरा किया जाए जूनियर डॉक्टर्स को ग्रामीण सेवा के बंधन से मुक्त किया जाए कोरोना काल में सेवा के लिए प्रशस्ति पत्र दिया जाए जिसका फायदा सरकारी भर्तियों में मिले.



<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here