कोरोना वायरस के समय तनाव कम करने के लिए बुनाई सबसे अच्छी हॉबी

0
9


बुनाई सबसे ज्यादा रिलैक्स करने वाली हॉबी है जिसे हर कोई अपना सकता है.

अपने पहले के समय की आदतों या पुराने क्रिएटिव क्रियाकलाप (Creative Activities) करने से मूड (Mood) अच्छा रहने के अलावा चिंता से भी मुक्ति मिलने में आसानी होती है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 2, 2020, 10:21 AM IST

कोरोना वायरस (Coronavirus) ने जनवरी-फरवरी से ही लोगों का जीना मुहाल किया हुआ है. कई लोग नौकरी से हाथ धो बैठे, तो कई लोगों की जान भी चली गई. वायरस ने हर एक का जीवन मुश्किल और परेशानियों से भर दिया है. लोगों में गुस्सा है और अपनों के जीवन को लेकर डर भी है. इसके अलावा नौकरियां जाने से निराशा भी है. जैसे भी हो लेकिन हर कोई संकट की इस घड़ी में मदद के लिए भी आगे आते दिखा है. लोग इस मुश्किल समय में तनाव और परेशानी दूर करने और रिलैक्स रहने के लिए अपनी अच्छी आदतों और क्रिएटिव कला में हाथ आजमा रहे हैं. जब दिमाग तनाव से भरा हो तो ऊर्जा का स्तर बढ़ाने के लिए गहरा आराम जरूरी हो जाता है. अपने पहले के समय की आदतों या पुराने क्रिएटिव क्रियाकलाप (Creative Activities) करने से मूड अच्छा रहने के अलावा चिंता से भी मुक्ति मिलने में आसानी होती है.

बुनाई से तनाव और हृदय गति में कमी
टाइम्स ऑफ इंडिया के एक आर्टिकल के अनुसार बुनाई सबसे ज्यादा रिलैक्स करने वाली हॉबी है जिसे हर कोई अपना सकता है. एक सर्वे में सामने आया है कि बुनाई से तनाव का स्तर और हृदय की गति में कमी करता है. इसे महामारी के दौर में सबसे बेहतर हॉबी बताया गया है. यह सर्वे 2379 मरीजों पर किया गया था. तनाव कम करने के लिए 20 आम हॉबीज को इसमें शामिल किया गया था. इसमें पैदल यात्रा और खाना पकाना भी शामिल किया गया था. टीम ने सर्वे में भाग लेने वाले लोगों को फिटनेस बैंड पहनने के लिए कहा ताकि सबसे कम हृदय गति वाली हॉबी को मापा जा सके.

इसे भी पढ़ेंः Covid-19: जानें ट्रेन यात्रा के दौरान किन नियमों का पालन करना है जरूरी, नहीं तो…इसमें पाया गया कि बुनाई में शामिल लोगों की हृदय गति अन्य हॉबी वाले लोगों की तुलना में 19 फीसदी कम थी. लेख में कहा गया कि हृदय की गति को कम करने में बुनाई सबसे प्रभावी तरीका है. हालांकि यह लोगों की व्यक्तिगत पसंद और दृष्टिकोण पर निर्भर करता है. अलग-अलग गतिविधियां लोगों के लिए भिन्न तरह से काम कर सकती हैं. एक इंसान से दूसरे इंसान तक तनाव और रिलैक्स का तरीका अलग हो सकता है. स्ट्रेस को शांति से हैंडल करना सबसे अहम चीज है.



Source link

ये भी पढ़े  पुरुषों को भी होता है ब्रेस्‍ट कैंसर, जानिए क्‍या है सच और क्‍या हैं गलत धारणाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here