कोरोना वीरों को काशी की बेटी ने अनोखे अंदाज में किया सलाम, यूरेशिया वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नाम

0
11


रिपोर्ट-अभिषेक जायसवाल

वाराणसी. कोरोना वॉरियर्स (Corona Warriors) के जज्बे को सलाम करने के लिए काशी की बेटी ने अनोखा तरीका अपनाया है. वाराणसी (Varanasi) की रहने वाली राखी ने लकड़ी की टुकड़ियों से खास तरह के मेडल तैयार किए हैं. खास बात ये है कि ये मेडल किसी खास शख्स के लिए नहीं बल्कि उन आम लोगों के लिए हैं जिन्होंने कोरोना के वक्त छोटी-छोटी चीजों से लोगों की जरूरत को पूरा किया था. मेडल तैयार करने के साथ ही राखी ने उन लोगों को ये मेडल भी भेंट किए हैं. इसमें रिक्शा, सब्जी विक्रेता,डिलीवरी बॉय, ऑटो चालक, किसान जैसे आम लोग शामिल हैं. पूरे डेढ़ साल की मेहनत के बाद राखी ने इन मेडल्स को तैयार किया है. कोरोना के वक्त जिस समय लोग अपने घरों में थे, उस वक्‍त वाराणसी की राखी कोरोना वीरों का लिए ये मेडल तैयार कर रही थीं.

राखी मूलतः बिहार की रहने वाली हैं, लेकिन बीते कुछ सालों से वो महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में पढ़ाई करने के साथ ही वाराणसी में रह रही हैं. उन्‍होंने बताया कि कोरोना के वक्त डॉक्टर्स और पुलिसकर्मियों को तो हर किसी ने सम्मानित किया, लेकिन उसी वक्त कई ऐसे आम लोग भी थे जिन्होंने हमारी मदद की और खुद की जान जोखिम में रखकर हमारे घर जरूरत के सामान को पहुंचाया. उन्हीं शूरवीरों के लिए मैंने ये प्रयास किया है, ताकि लोग उनके योगदान को भी जान और समझ सकें.

ऐसे मिली प्रेणना
राखी ने बताया कि उनको इसकी प्रेणना डेनमार्क के रहने वाले मैडम ईगर माग्रेट लार्सन से मिली. उन्होंने भी 2018 में कुछ खास लोगों के लिए बीएचयू (BHU) में इसी तरह की प्रदर्शनी लगाई थी, जिसके बाद राखी ने ये ठाना कि वो भी समाज के लिए बेहतर काम करने वालों को सम्मानित करने का प्रयास करेंगी.

यूरेशिया वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम हुआ दर्ज
वाराणसी की बेटी के इस अनोखे प्रयास की चर्चा अब शहर में हो रही है. राखी की इस मेहनत को उस वक्त हौसला मिल गया जब यूरेशिया वर्ल्ड रिकॉर्ड बुक में उनका नाम दर्ज हुआ, जिसके बाद उनके घर के साथ ही पूरे विश्वविद्यालय में खुशी का माहौल है.

रिक्शा चालकों ने भी की तारीफ
राखी ने जिन 501 शख्स के लिए मेडल तैयार किए हैं उसमें वाराणसी की टेरो कार्ड रीडर नेहा भी शामिल हैं. नेहा ने बताया कि राखी का ये प्रयास बेहद सराहनीय है. फोन पर बातचीत में रिक्शा चालक राकेश कुमार ने बताया कि उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था कि उन्हें भी मेडल देकर सम्मानित किया जाएगा.

Tags: Corona warriors, COVID 19, Varanasi news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here