कौशांबी में 292 करोड़ की लागत से बने गंगा पुल में दरार, पल्लवी पटेल ने डिप्टी सीएम पर कही तीखी बात

0
14


हाइलाइट्स

292 करोड़ की लागत से बने दुर्गा भाभी पुल में नजर आ रहे दरार.
दुर्गा भाभी पुल के दोनों तरफ जॉइंट में 4 इंच का गैप सामने आया.
गंगा पुल का डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने उद्घाटन किया था.

कौशांबी. उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले से बड़ी खबर है. यहां डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के गृह जनपद कौशांबी में 9 महीने पहले 292 करोड़ की लागत से बने दुर्गा भाभी पुल में अचानक दरार आ गई है. स्थिति ऐसी है कि राहगीरों को उस पर चलने में डर लग रहा है. इतना ही नहीं पुल के दोनों तरफ जॉइंट में 4 इंच का गैप हो गया है. बता दें कि इस पुल का डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने उद्घाटन किया था.

पुल में दरार आने से उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम के अफसरों में हड़कंप मच गया है. रेलिंग से सटकर आ रही दरारें हर रोज बढ़ती जा रही हैं. इस दरार को सीमेंट के घोल से छिपाने के लिए राज्य सेतु निगम के अफसरों ने भरसक प्रयास किया, लेकिन अपने मंसूबों में वो सफल नहीं हो सके. अब इस मामले में सियासत भी गरमा गई है. सपा और अपना दल गठबंधन की सिराथू विधायक पल्लवी पटेल ने ट्वीट कर सरकार पर जमकर निशाना साधा है.

गोरखपुर: एक पंखे से लटके मिले 2 बेटियों के शव, दूसरे से लटकी थी पिता की लाश, जानें पूरा मामला

पल्लवी पटेल ने बिना नाम लिए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को घेरा है. उन्होंने, अपने ट्वीट में लिखा; कि ‘मैं शुरू से कह रहीं हूं कि उत्तर प्रदेश में निर्माण एवं ठेका-पट्टा में एक संगठित गिरोह सुनियोजित लूट कर रहा है, और मेरा सीधा आरोप सरकार के एक उपमुख्यमंत्री पर है. वास्तव में वो ठेकेदार मंत्री है और इस समूह का सरगना है. उन्होंने, आगे लिखा, मैं कौशांबी में ट्रामा सेंटर, ओवरब्रिज, अतिथि गृह समेत अन्य सभी प्रकार के निर्माण कार्य की तरफ भी आपका ध्यान आकृष्ट कराना चाहती हूं. मैं इन सब कार्यो में सरकार और अधिकारियों के मिलीभगत की जांच मुख्यमंत्री जी के निगरानी में कराने की मांग करती हूं.

बता दें कि कौशांबी जिले को प्रतापगढ़ से जोड़ने वाले इस शहजादपुर सेतु का निर्माण 292 करोड़ की लागत में 9 महीने पहले किया गया था. डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने वीरांगना दुर्गा भाभी के नाम पर इस सेतु की नींव रखी थी. 9 महीने पहले ही इस पुल को लोगों के लिये चालू कर दिया गया. लेकिन, पुल में दरार आने के बाद राज्य सेतु निगम के अधिकारियों ने इस पर पर्दा डालने के लिए सीमेंट का घोल दरारों में डलवाया. इसके बावजूद भी वह छिपाने में नाकाम रहे. वहीं, इस मामले में जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने बताया कि इस संबंध में राज्य सेतु निगम के अधिकारियों से जवाब तलब कर ओवरलोडिंग पर भी अंकुश लगाया जाएगा.

Tags: Deputy CM Keshav Prasad Maurya, Ganga river bridge, Kaushambi news, Uttar pradesh news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here