क्या आपने भाजपा का वंशवाद देखा है, दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर दिखाया

0
18


दिग्विजय सिंह ने भाजपा के वंशवाद पर निशाना साधा है. (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की राष्ट्रीय युवा दिवस (National Youth Day) पर मंगलवार को हुई वीडियो कॉन्फ्रेंस के बाद दिग्विजय सिंह ने एक वीडियो ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने भाजपा का वंशवाद दिखाया.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 14, 2021, 9:30 AM IST

भोपाल. प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने वंशवाद को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा पर एक बार फिर हमला बोला है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की राष्ट्रीय युवा दिवस (National Youth Day) पर मंगलवार को हुई वीडियो कॉन्फ्रेंस के बाद दिग्विजय सिंह ने एक वीडियो ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने भाजपा का वंशवाद दिखाया. उन्होंने लिखा- “मोदी जी भाजपा की वंशबेल या Dynasty Politics के उदाहरण देख लें।”

गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह भाजपा के कई नेताओं के धुर विरोधी रहे हैं. उन्होंने पिछले साल जुलाई में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर विवादित बयान दिया था. उस वक्त उन्होंने कहा था- “कांग्रेस में कोई भी नहीं चाहता कि मोदी के प्रति नरम रवैया अपनाया जाए.” उस वक्त पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा के हमलों पर कांग्रेस नेताओं की चुप्पी पर भी नाराजगी व्यक्त की थी. उन्होंने कहा था कि कांग्रेस के नेताओं को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का सामना करने के लिए राहुल गांधी और प्रियंका गांधी जैसा आक्रामक होना पड़ेगा.

मैं और मेरा परिवार, इसी भावना को मज़बूत कर रहे कुछ लोगPM
मोदी ने राष्ट्रीय युवा दिवस पर कहा था कि अभी भी ऐसे लोग हैं, जिनका विचार, जिनका आचार, जिनका लक्ष्य, सब कुछ अपने परिवार की राजनीति और राजनीति में अपने परिवार को बचाने का है. ये राजनीतिक वंशवाद लोकतंत्र में तानाशाही के साथ ही अक्षमता को भी बढ़ावा देता है.
पीएम ने कहा कि राजनीतिक वंशवाद, नेशन फर्स्ट के बजाय सिर्फ मैं और मेरा परिवार, इसी भावना को मज़बूत करता है. ये भारत में राजनीतिक और सामाजिक करप्शन का भी एक बहुत बड़ा कारण है. उन्होंने कहा कि कुछ बदलाव बाकी हैं, और ये बदलाव देश के युवाओं को ही करने हैं. राजनीतिक वंशवाद, देश के सामने ऐसी ही चुनौती है जिसे जड़ से उखाड़ना है. अब केवल सरनेम के सहारे चुनाव जीतने वालों के दिन लदने लगे हैं. लेकिन राजनीति में वंशवाद का ये रोग पूरी तरह समाप्त नहीं हुआ है.


<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here