क्या नीतीश कुमार के बिछाए बिसात पर चित हुए चिराग, NDA से इतर और विकल्पों पर है नजर?

0
57


क्यों एनडीए में भी चिराग पासवान के भविष्य को लेकर अटकलों का बाजार गर्म है?

Bihar Political News: बिहार में पिछले कुछ दिनों से घटित राजनीतिक घटनाक्रमों को देख कर लगता है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने बिहार से एलजेपी (LJP) का नामोनिशान मिटाने की कसम खा रखी है. बीते मंगलवार को ही एलजेपी के एकमात्र विधायक राजकुमार सिंह जेडीयू में शामिल हो गए. ऐसे में सवाल उठता है कि राज्य में चिराग पासवान (Chirah Paswan) और उनके पार्टी का भविष्य अब क्या होगा?

पटना. एलजेपी (LJP) सुप्रीमो चिराग पासवान (Chirag Paswan) बिहार विधानसभा चुनाव- 2020 (Bihar Assembly Elections- 2020) के बाद से ही राज्य की राजनीतिक सीन से लगभग गायब ही रह रहे हैं. इस बीच एलजेपी के कई नेताओं का पार्टी छोड़ने का सिलसिला जो शुरू हुआ था वह अब भी बदस्तूर जारी है. पार्टी के कई छोटे-बड़े नेताओं ने हाल के दिनों में बीजेपी और जेडीयू का दामन थामा है. बिहार में पिछले कुछ दिनों से घटित राजनीतिक घटनाक्रमों को देख कर लगता है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने बिहार से एलजेपी का नामोनिशान मिटाने की कसम खा रखी है. बीते मंगलवार को ही एलजेपी के एकमात्र विधायक राजकुमार सिंह जेडीयू में शामिल हो गए. बिहार विधानसभा से अब एलजेपी पूरी तरह साफ हो गई है. ऐसे में सवाल उठता है कि बिहार में एलजेपी का भविष्य क्या है? साथ ही एनडीए में भी चिराग पासवान के भविष्य को लेकर क्यों अटकलों का बाजार गर्म है?

जेडीयू को तीसरे नंबर की पार्टी बनाने में किसका हाथ
जेडीयू बिहार चुनाव के नतीजों के हिसाब से तीसरे नंबर की पार्टी है. बीते बिहार चुनाव में आरजेडी पहले नंबर की और बीजेपी दूसरे नंबर की पार्टी बनी थी. नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू इस चुनाव में 43 सीट ही जीत पाई. नीतीश कुमार की यह हालत एलजेपी की वजह से हुई. एलजेपी ने 20 से ज्यादा सीटों पर जेडीयू उम्मीदवारों को हराने का काम किया. जेडीयू नेता खुले मन से स्वीकार करते हैं कि चिराग पासवान ने नीतीश कुमार को बड़ा डैमेज किया. चिराग साथ होते तो बिहार में आज नीतीश कुमार की स्थिति ऐसी नहीं होती.

Chirag Paswan, CM Nitish Kumar, bihar politics, LJP, jdu, BJP, PM Modi, pm narendra modi, Bihar News, Prjd, Tejasvi yadav, tejashwi yadav, lalu prasad yadav, चिराग पासवान, नीतीश कुमार, पीएम मोदी, एलजेपी, जेडीयू, आरजेडी, बीजेपी, राष्ट्रीय जनता दल, चिराग पासवान का एनडीए में भविष्य, बिहार एनडीए, जेडीयू, सांसद, विधायक, बिहार विधानसभा चुनाव 2020

क्या चिराग का नीतीश कुमार पर लगातार हमलावर होना भी एनडीए को मंजूर नहीं है. (ANI फाइल फोटो)

एकमात्र विधायक भी एलजेपी से तोड़ा नाता
बता दें कि बीते बिहार चुनाव में एलजेपी ने जो एकमात्र सीट पर जीत दर्ज की थी, वह सीट भी अब उसके हाथ से छिटक गई है. एलजेपी के एकमात्र विघायक राजकुमार सिंह ने पाला बदल कर जेडीयू का दामन थाम लिया है. एलजेपी के एकमात्र विधायक को जेडीयू ने अपने पाले में कर चिराग पासवान को बड़ा झटका दिया है. चिराग पासवान बीते बिहार विधानसभा चुनाव में भले ही अपनी झोपड़ी को रौशन नहीं कर पाए, लेकिन नीतीश के तीर को मरोड़ जरूर दिया था. अब इसी कसक को नीतीश कुमार एक-एक कर के चिराग पासवान से हिसाब बराबर कर रहे हैं.

एलजेपी सांसद भी बदलेंगे पाला?
ऐसे में सवाल उठता है कि क्या एलजेपी के लोकसभा सांसद भी पाला बदलने वाले हैं? हाल के दिनों में नावादा के सांसद चंदन सिंह की सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात के बाद इस कयास को काफी बल मिला था. एलजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सर्राफ न्यूज 18 हिंदी के साथ बातचीत में कहते हैं, ‘विधायक राजकुमार सिंह को पार्टी ने पहले ही साइड लाइन कर दिया था. पार्टी के कार्यक्रमों में शिरकत नहीं करते थे. राजकुमार का जेडीयू में जाना कोई बड़ी बात नहीं है. नीतीश कुमार जी जनता को इससे क्या संदेश देना चाहते हैं. नीतीश कुमार बीजेपी की मदद से मुख्यमंत्री बने हैं उन्हें लोक जन शक्ति पार्टी से ज्यादा जनता से जो वायदा किया है, उसको पूरा करने पर ध्यान देना चाहिए. सरकार बने इतने दिन हो गए हैं, लेकिन नीतीश कुमार ने चुनाव में जनता से जो वायदा किया था उस पर अमल भी शुरू नहीं किया है.’

Chirag Paswan, CM Nitish Kumar, bihar politics, LJP, jdu, BJP, PM Modi, pm narendra modi, Bihar News, Prjd, Tejasvi yadav, tejashwi yadav, lalu prasad yadav, चिराग पासवान, नीतीश कुमार, पीएम मोदी, एलजेपी, जेडीयू, आरजेडी, बीजेपी, राष्ट्रीय जनता दल, चिराग पासवान का एनडीए में भविष्य, बिहार एनडीए, जेडीयू, सांसद, विधायक, बिहार विधानसभा चुनाव 2020

नीतीश कुमार की मौजूदगी में बिहार विधानसभा में एलजेपी के एकमात्र विधायक ने जेडीयू ज्वाइन कर लिया है.

सांसद रहेंगे पार्टी के साथ- एलजेपी
सर्राफ ने पार्टी के सांसदों के दल बदलने के कयास को भी सिरे से खारिज कर दिया. संजय सर्राफ ने कहा, ‘पार्टी के सारे सांसद पार्टी के साथ हैं. अभी हाल ही में चिराग पासवान के साथ सभी सांसदों ने जम्मू-कश्मीर का दौरा किया था. सारे सांसद रामविलास पासवान के सपने को साकार करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.’

ये भी पढ़ें: Delhi Night Curfew News: जानें मोदी सरकार के Lockdown और केजरीवाल सरकार के नाइट कर्फ्यू में क्यों है फर्क

क्या कहते हैं राजनीतिक विश्लेषक
राजनीतिक मामलों के जानकार संजय कुमार कहते हैं, ‘मोदी कैबिनेट के संभावित विस्तार तक चिराग पासवान चुप ही रहेंगे. ये भी साफ हो चुका है कि नीतीश कुमार अब चिराग पासवान के साथ नहीं आएंगे. बीते बिहार चुनाव में चिराग पासवान का तेजस्वी यादव पर हमला नहीं करना और बिहार एलजेपी अध्यक्ष प्रिंस राज का तेजस्वी से मिलना भी जेडीयू को नागवार गुजर रहा है. शायद नीतीश कुमार बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व को समझाने में कामयाब हो गए हैं कि चिराग का तेजस्वी के प्रति झुकाव है. चिराग का नीतीश कुमार पर लगातार हमलावर होना भी एनडीए को मंजूर नहीं है. आरजेडी सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के उस ट्वीट के भी मायने निकाले जा रहे हैं, जिसमें उन्होंने रामविलास पासवान के निधन के बाद कहा था कि मैंने अपना छोटा भाई खो दिया है. मेरे समझ से चिराग पासवान मौके की ताक में हैं और अगर मोदी कैबिनेट में उनको जगह नहीं मिलती है तो फिर वह नए विकल्पों की खोज में लग जाएंगे.’



<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here