क्‍या छत्तीसगढ़ में 17 जून को होगा नेतृत्व परिवर्तन? स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने दिया ये जवाब| Health Minister TS Singh Deo denies leadership change in Chhattisgarh nodark

0
11


स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव को नये सीएम के तौर पर देख जा रहा है.

Chhattisgarh News: पिछले कुछ दिनों से छत्तीसगढ़ में 17 जून को नेतृत्व परिवर्तन को लेकर सियासत का दौर जारी है. इस बीच स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव (TS Singh Deo) ने किसी भी प्रकार के परिवर्तन की बात से इनकार करते हुए इसे साजिश बताया है.

रायुपर. छत्तीसगढ़ में 17 जून को नेतृत्व परिवर्तन की उड़ती खबरों और बीजेपी (BJP) के बयानों पर स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव (TS Singh Deo) ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि एक समूह है जो इस तरह की अफवाहें फैलाने पर तुला हुआ है. इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने 17 जून को नेतृत्व परिवर्तन को लेकर कहा कि ये गलत बातें हैं, कुछ लोगों की बदमाशियां हैं, कुछ लोग माहौल खराब करने के लिए ऐसा कर रहे हैं. नेतृत्व परिवर्तन 17 तारीख को होगा या फिर 18 तारीख को होगा, या नहीं होगा. इस बारे में कोई जानकारी ही नहीं आई है.

वहीं, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने कहा कि इसमें समय देना व्यर्थ ही है. शीर्ष नेतृत्व निर्णय लेता तो घोषित कर देता. मेरे को और आपको कैसे पता चल सकता है कि उन्होंने ऐसा तय किया है. ऐसा तय होता तो वो सार्वजनिक कर देते. यह भ्रम फैलाने की स्थिति है. मेरे पास भी 17 तारीख को लेकर खूब फोन आ रहे हैं. मैं उन्हें लगातार बता रहा हूं कि ऐसा कुछ तय नहीं है. यह भ्रम फैलाने की कोशिश है. यह साफ तौर पर बदमाशी है, मैं इसे बदमाशी की श्रेणी में डालता हूं.

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर ने कही थी ये बात

छत्तीसगढ़ में नेत्रृत्व परिवर्तन को लेकर बीजेपी भी लगातार बयानबाजी कर रही है. बीजेपी विधायक और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर ने कल राज्य में ढाई ढाई साल के कार्यकाल की बात का इशारा करते हुए ट्वीट किया था. उन्‍होंने लिखा था,’ 17 जून 2021 छत्तीसगढ़ की राजनीति का ऐतिहासिक दिन. कुछ तो घटेगा ही. धूआं छंटेगा ही. धैर्य इतना भी ना हो कि खून जमे तो खौल भी न पाए.’सिंह देव ने किया पलटवार

वहीं, इस ट्वीट पर स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने पलटवार करते कहा था कि खून जमने का एक कारण कोरोना भी तो है. मुझे भी कोरोना हुआ और उस दौर से भी मैं निकल गया. खून जमने से भी डॉक्टरों ने बचा लिया दवा वगैरह देकर, तो मैं अजय चंद्राकर को यही कहना चाहूंगा स्नेह बनाए रखें, लेकिन चिंता बिल्कुल भी ना करें. ऐसी भी परिस्थिति भी न आएगी कि खून जम जाए और उसमें उबाल भी न आ सके. मैं गरम दल वाला हूं ही नहीं ,कोई भी परिस्थिति आएगी तो भी उबाल या उफान की बात होगी ही नहीं. यह मेरे स्वभाव का एक हिस्सा है.



<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here