गांव के प्रधान के घर मिली शराब तो रूक गई शादी, बिन फेरे दूल्हे के साथ विदा हुई दुल्हन liquor recovery from pradhan house stopped marriage of tribal-society girl at-banka bihar bramk

0
120


बांका के एक गांव में शादी के मंडप में जोड़ा

Banka News: शादी में व्यवधान का ये मामला बिहार के बांका जिले से जुड़ा हुआ है. लोगों का कहना है कि इस केस में अब जब तक प्रधान की रिहाई नहीं हो जाती शादी नहीं हो सकती.

बांका. समाज की पुरानी रवायतें और परंपरा का बहुत महत्व होता है. इसको समाज के लोग हर कीमत पर पूरा करने की कोशिश करते हैं, लेकिन बिहार में पूर्ण शराब बंदी (Bihar Liquor Ban) का कानून समाज की परंपरओं पर भारी पड़ गया और परंपरा को पूरा करने के चक्कर में आदिवासी समाज (Tribal Society) का ग्राम प्रधान जेल की सलाख़ों के पीछे चल गया. और तो और उसके चलते समाज की एक युवती की शादी पर भी फिलहाल ब्रेक लग गया.

छह लीटर शराब बरामद

मामला बांका के सदर अनुमण्डल के धोरैया थाना क्षेत्र के कुशहा संथाली टोला का है. बताया जा रहा है कि आदिवासी समाज की शादी में देवी-देवताओं को शराब चढ़ाने का चलन को लेकर ग्राम प्रधान ने अपने घर में छह लीटर देशी शराब रखी थी. शराब घर में रखने को लेकर पुलिस को सूचना मिली जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए प्रधान गोपाल सोरेन को गिरफ्तार कर लिया. इसको लेकर रसिक लाल मुर्मू की लड़की बासमती मुर्मू की शादी रुक गयी.

मंगलवार को पहुंची थी बारातजानकारी के मुताबिक शादी को लेकर जिले के बौन्सी थाना के शोभा गांव से मंगलवार को दूल्हे के साथ लड़की के घर बारात भी पहुंच गयी लेकिन प्रधान की गिरफ्तारी के चलते शादी रोकनी पड़ी. गौरतलब है कि आदिवासी परंपरा के अनुसार शादी ग्राम प्रधान ही कराता है लेकिन अब आदिवासी समाज के लोग दुविधा में पड़ गए हैं. परंपरा के अनुसार अब जब तक लड़की की शादी उस लड़के से नहीं होती है तब तक लड़की की दूसरी शादी नहीं हो सकती है वहीं लड़के को उसके गांव में घुसने की इजाजत नहीं होगी.

बीडीओ से गांव के लोगों ने लगाई गुहार

इसको लेकर समाज के लोग प्रधान की रिहाई को लेकर समाज की महिलाएं और पुरुष धोरैया के बीडीओ से मिले. बीडीओ से समाज के लोगों ने अपने परंपरा से जुड़ी बातों को बताते हुए समाज के प्रधान की भूमिका की जानकारी देकर उनकी रिहाई की गुजारिश की लेकिन पुलिस प्रशासन कानून की दुहाई देते हुए ग्राम प्रधान कि रिहाई करने से इनकार कर दिया.

बीच का रास्ता निकालने के बाद भी नहीं बनी बात

ग्राम प्रधान की गिरफ्तारी के बाद से लड़के-लड़की की शादी में पेंच फस गया. इसको लेकर लोगों के प्रयास से फिलहाल लड़के के साथ युवती को बिना शादी किये ही इस शर्त पर भेज दिया गया कि ग्राम प्रधान की रिहाई होते ही दोनो की शादी करायी जाएगी लेकिन लड़के के गांव के लोग अपनी परंपरा को लेकर अड़ गए और दूल्हा-दुल्हन को बुधवार की रात तक बौन्सी थाना के शोभा गांव में घुसने से रोक दिया गया.

पुलिस का बयान

इस बाबत धोरैया थनाध्यक्ष महेश्वर राय ने कानून के हिसाब से कार्रवाई करने की बात कहते हुए कहा कि आगे न्यायालय इस मामले में फैसला करेगा. उन्होंने कहा कि शराब होने की सूचना मिलने पर पुलिस की कार्रवाई हुई थी.



<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here