गौ तस्करी: चंदौली से बिहार होते हुए बंगाल ले जा रहे थे, पुलिस ने 200 से ज्यादा गोवंश कराए मुक्त

0
17


हाइलाइट्स

उत्तर प्रदेश के चंदौली के जंगलों से मुक्त कराए 236 गोवंश.
गौ तस्कर चंदौली से बिहार के रास्ते बंगाल ले जा रहे थे, तस्कर हुए फरार.

चंदौली. उत्तर प्रदेश पुलिस का गोवंश के तस्करों के खिलाफ अभियान लगातार जारी है. पूर्वी उत्तर प्रदेश के चंदौली में गोवंश तस्करों के चंगुल से सवा दो सौ से ऊपर गोवंश मुक्त कराए गए हैं. जिन्हें जंगलों के माध्यम से सीमा पार कर बिहार होते हुए पश्चिम बंगाल की तरफ ले जाया जा रहा था. एक साथ इतनी भारी मात्रा मे गोवंशों की रिकवरी को उत्तर प्रदेश की अब तक की सबसे बड़ी रिकवरी के तौर पर भी देखा जा रहा है. हालांकि पुलिस की इस कार्रवाई के दौरान अंधेरे का फायदा उठाकर तस्कर फरार होने में कामयाब रहे. जिन्हें पुलिस तलाश कर रही है. पुलिस इस मामले में पशु तस्करों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई कर रही है.

उत्तर प्रदेश के चंदौली जनपद के नक्सल प्रभावित इलाके नौगढ़ थाना में पुलिस ने गोवंश तस्करों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 236 गोवंश मुक्त कराए हैं. इन गोवंशों को वध के लिए बिहार होते हुए बंगाल ले जाया जा रहा था. दरअसल चंदौली जनपद की सीमा बिहार से सटी हुई है और पशु तस्कर चंदौली की सीमा पार कर बिहार होते हुए चले जाते हैं. बॉर्डर पर सख्ती के चलते जब सीधे रास्ते से बिहार की तरफ जाने का मौका पशु तस्करों के लिए बिल्कुल बंद हो गया तो उन्होंने जंगल के रास्ते सीमा पार कराने रास्ता चुन लिया.

चंदौली से सटी है बिहार की सीमा
चंदौली के इस जंगली इलाके से बिहार की सीमा सटी हुई है और इन जंगलों से होकर पशु तस्करों के लिए सीमा पार कर जाना काफी मुफीद साबित हो रहा था. पुलिस से बचने के लिए पशु तस्करों ने जंगली रास्तों को चुना था. इसी दौरान चंदौली पुलिस को सूचना मिली कि बिहार और उत्तर प्रदेश के रहने वाले कुछ पशु तस्कर भारी मात्रा में पशुओं को इकट्ठा कर एक साथ सीमा पार कर बिहार होते हुए बंगाल भेजने की फिराक में है.

गिनती की तो रह गए हैरान
सूचना के बाद चंदौली पुलिस ने घेराबंदी की और पशु तस्करों को घेर लिया. लेकिन जैसे ही पुलिस की टीम घेराबंदी करते हुए तस्करों को पकड़ने की कोशिश कर रही थी. उसी दौरान पुलिस से खुद को घिरता देख पशु तस्कर पशुओं को छोड़ जंगल के रास्ते अंधेरे में फरार हो गए. एक साथ इतने पशुओं को सीमा पार कराते देख पुलिस के भी होश उड़ गए. सुबह होने के बाद जब पुलिस ने गोवंशों की गिनती की तो हैरान रह गए. पशु तस्कर एक साथ कुल 236 पशुओं को सीमा पार कराकर बिहार होते हुए पश्चिम बंगाल भेजने के फिराक में थे.

यूपी-बिहार के तस्कर
पुलिस के अनुसार गोवंशों की इस तस्करी में यूपी और बिहार के रहने वाले आधा दर्जन तस्कर शामिल हैं. उत्तर प्रदेश से सस्ते दामों में घुमंतु को खरीदते हैं और बिहार के रास्ते पश्चिम बंगाल ले जाकर गोवध के लिए महंगे दामों में बेचते हैं. फरार तस्करों की तलाश की जा रही है. चंदौली पुलिस का दावा है कि जल्द ही इन पशु तस्करों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

Tags: Bihar News, Chandauli News, Smuggling



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here