चरम पर बुंदेलखंड का तापमान: बांदा और झांसी सबसे गर्म, तापमान 47 से 49 डिग्री पहुंचा, टूटे पिछले रिकॉर्ड

0
35


बांदा. बुंदेलखंड में आसमान से सूरज आग उगल रहा है. पारा 47 से 49 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है. बुंदेलखंड का बांदा और झांसी जिला पूरे यूपी में इन दिनों सबसे ज्यादा गर्म है. सामान्य तौर पर बात की जाए तो सुबह 9 बजे से ही पारा 46 डिग्री सेल्सियस के कांटे को छू लेता है. इसके बाद शाम के बाद ही कांटा नीचे उतरता है. आलम ये है कि सुबह की गर्मी भी दोपहर जैसा अहसास कराने लगी है.

बुंदेलखंड के सभी सातों जिलों का औसतन तापमान 46 से नीचे गिरने का नाम नहीं ले रहा है. बीते दो दिनों से बुंदेलखंड का तापमान इसी बिंदु पर ठहरा हुआ है. तकरीबन सात दशक से भी ज्यादा समय के बाद बुंदेलखंड में प्रचंड गर्मी का बोलबाला दिखाई दे रहा है. दिन भर सड़कें सन्नाटे में डूबी हुईं हैं और लोग घरों से बाहर निकलने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं. लम्बे समय के बाद लोग गर्मी के मौसम में भीषण तपन भरी गर्मी का सामना करने को मजबूर हुये हैं.

जेठ के महीने से पहले गर्मी का हाहाकारी तांडव
इस बार चालू जेठ के महीने में पिछले सारे कीर्तिमान शायद ध्वस्त हो गए हैं. लम्बे समय के बाद बुजुर्गों के मुताबिक उन्होंने इतनी भीषण गर्मी देखी है. जब सुबह सूरज की लालिमा फैलते ही गर्मी अपने पूरे चरमोत्कर्ष पर पहुंच रही है. सूरज के चढ़ते-चढ़ते गर्मी का मिजाज भी पूरी शिद्दत पर पहुंच रहा है. लोग घर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं. बहुत जरूरी होने पर ही लोग पूरी तरह से अपने को गर्मी से बचाते हुये और आनन-फानन में काम निपटाकर घरों को लौट रहे हैं. दुकानें तो खुल रही हैं, लेकिन उनमें ग्राहक इक्का-दुक्का ही पहुंच रहे हैं. गर्मी का यह मिजाज देर शाम तक बना रहता है. रात में भी प्रचंड गर्मी का अहसास हो रहा है.

बिजली कट भी मुसीबत बना

भीषण गर्मी के बीच बिजली कट भी लोगों के लिए मुसीबत बने हैं. कोई दिन बाकी नहीं जा रहा है, जब अंधाधुंध कटौती का सामना नागरिकों को न करना पड़ रहा हो. दिन को जहां दो से चार घण्टे तक, वहीं रात को भी इतनी ही समयावधि की कटौती रोजाना हो रही है. बीते कई वर्षों के बाद शहर इतनी अंधाधुंध बिजली कटौती का सामना कर रहा है, जिसके चलते गर्मी का प्रकोप और तीखा हुआ है तथा लोग व्याकुल हुए जा रहे हैं. पटरी से उतरी विद्युत व्यवस्था वापस लौटने का नाम नहीं ले रही है. इससे नागरिकों में विभाग के प्रति नाराजगी दिखाई पड़ती है.

नजर नहीं आ रहे पौशाला, पैसा खर्चकर बुझा रहे प्यास
इधर बुंदेलखंड के महोबा में भी लोग तेज गर्मी का सामना कर रहे हैं. पल, पल में उन्हें प्यास लग रही है. जरूरी काम से लोग घर से बाहर निकल रहे हैं. लोगों की प्यास बुझाने के लिए शहर में अबकी बार पौशाला की स्थापना नहीं हुई है. सामाजिक संस्थाओं ने भी इस बार हाथ खींचकर रखा है.

Tags: Banda News, Bundelkhand news, Heat Wave, Jhansi news, UP news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here