चांदनी चौक में हनुमान मंदिर तोड़ने पर बवाल, बीजेपी-आप आमने सामने

0
22


दिल्‍ली के चांदनी चौक में हनुमान मंदिर तोड़े जाने पर सियासत शुरू.

दिल्‍ली हाईकोर्ट के आदेश का हवाला देकर तोड़े गए इस मंदिर पर आप ने आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी इतनी गिरी हुई राजनीति कर रही है. प्राचीन हनुमान मंदिर जो हजारों सालों से वहां पर है, वहां हनुमान जी की पूजा होती है. बीजेपी शासित उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने हनुमान मन्दिर तोड़ा है.

नई दिल्‍ली. चांदनी चौक (Chandni chowk) पुनर्विकास योजना के तहत इलाके में बना सैकड़ों साल  पुराना हनुमान मंदिर आज तोड़ दिया गया. उत्‍तरी दिल्‍ली नगर निगम (NDMC) की ओर से की गई कार्रवाई के बाद अब बीजेपी और आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) के बीच घमासान शुरू हो गया है.

दिल्‍ली हाईकोर्ट के आदेश का हवाला देकर तोड़े गए इस मंदिर पर आप (AAP) ने आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) इतनी गिरी हुई राजनीति कर रही है. प्राचीन हनुमान मंदिर जो हजारों सालों से वहां पर है, वहां हनुमान जी की पूजा होती है. बीजेपी शासित उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने हनुमान मन्दिर (Hanuman Temple) तोड़ा है.

आप नेता दुर्गेश पाठक ने कहा कि ‘कोर्ट में उनका हलफनामा पढ़ लीजिए. कोर्ट में एमसीडी ने हलफनामा लिख कर दिया है कि हम मंदिर तोड़ने को तैयार हैं. उसमें एमसीडी का साइन है. घटनास्‍थल पर सुबह से आम आदमी पार्टी के लोग बारिश में धरने पर बैठे हुए हैं. पुलिस उनके पास है वहां पर किसी को जाने नहीं दे रहे हैं, क्योंकि भाजपा (BJP) ने वहां पुलिस लगा रखी है.’

इसके उलट उत्तरी दिल्ली नगर निगम के मेयर ने दिल्ली सरकार पर मंदिर तोड़ने का आरोप लगाया.  उत्तरी दिल्ली नगर निगम के मेयर जय प्रकाश ने कहा कि दिल्ली सरकार द्वारा चांदनी चौक का पुनर्विकास किया जा रहा है उसके तहत दिल्ली सरकार (Delhi Government) कोर्ट गयी जिसमें अतिक्रमण हटाने की सिफारिश की थी. जिसके लिए निगम और मेयर ने सीएम (CM Delhi) को मंदिर शिफ्ट करने या वहीं पर रखे जाने के बाबत चिट्ठी भी लिखी लेकिन दिल्ली सरकार ने कोई सज्ञान नहीं लिया. इसके उलट कोर्ट में इस मामले में दिल्ली सरकार के वकीलों ने तेज़ी दिखाने की वकालत की. तीन बार कोर्ट के आदेश पर स्टे लिया गया. अब आप बीजेपी पर आरोप लगा रही है.


<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here