चूरण की गोलियों के 1100 रुपये लेकर देती थी लड़का होने की गारंटी, सामने आई सच्चाई तो….

0
44


कैथल में 11 सौ रुपये में लड़का होने की दवा देने वाली महिला को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

कैथल में स्वास्थ्य विभाग (Health Department) की टीम ने 1100 रुपये में गारंटी के साथ लड़का होने की दवाई देने वाली एक महिला को (Women) गिरफ्तार किया है. टीम ने महिला द्वारा दी गई पांच गोलियों को भी बरामद किया है.

कैथल. जिले की स्वास्थ्य विभाग (Health Department) की टीम ने शुगर मिल कॉलोनी में 1100 में गारंटी के साथ लड़का होने की दवाई देते हुए एक महिला (Women) को गिरफ्तार किया है. टीम ने महिला द्वारा दी गई चूर्ण टाइप काले रंग की पांच गोलियां और डिकोय द्वारा दिए गए नोट (Currency) भी बरामद किया है.

दोपहर करीब 12 बजे स्वास्थ्य विभाग की टीम डिकोय के साथ पहुंची थी. टीम शुगर मिल के गेट पर गाड़ी खड़ी करके महिला का इंतजार कर रहा थी. डिकोय के रूप में गई दोनों महिलाओं ने पहले दो लड़कियां होने की बात कहते हुए लड़का होने की दवाई मांगी.इस पर दवा देने वाली महिला ने 1100 रुपए लेकर पांच गोलियों की पुड़िया महिलाओं को दी और पांच दिनों तक रोजाना सुबह तारों की छांव गोलियां लेने के लिए कहा. बोलीं ऐसा करने पर 100 प्रतिशत लड़का ही होगा.

गुरुग्राम में स्कॉर्पियो सवार बदमाशों और पुलिस के बीच मुठभेड़, 2 गिरफ्तार

डिकोय ने दवाई मिलते ही गेट पर खड़ी टीम के फोन पर मिस्ड कॉल कर सूचना दी. उसके तुरंत बाद टीम ने पहुंचकर महिला द्वारा दी गई गोलियां और नंबर नोट कर थमाए गए नोट बरामद कर लिया. स्वास्थ्य विभाग की टीम ने महिला के खिलाफ सिविल लाइन थाने में शिकायत दर्ज कराई है. साथ ही महिला को सिविल लाइन थाने को सौंप दिया है.गुप्त सूचना मिलने पर की कार्रवाई

सिविल सर्जन को महिला द्वारा लड़का होने की दवाई देने की गुप्ता सूचना मिली थी. इस पर सिविल सर्जन ने चार सदस्यीय टीम का गठन किया. टीम में सीवन सीएचसी के एसएमओ डॉ. बलविंद्र, पीएनडीटी के नोडल अधिकारी डॉ. गौरव पूनिया, डीपीएम नरेंद्र कुमार और एजुकेटर राजेश शामिल थे.

किसानों के समर्थन में उतरे पूर्व विधायक भरत सिंह छोकर ने BJP छोड़ा, बोले- किसानों के साथ मजाक कर रही है सरकार

कैथल जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. ओमप्रकाश ने बताया कि महिला द्वारा लड़का होने की दवाई देने की सूचना मिली थी. इस पर हमने रेड कर महिला को रंगे हाथों पकड़ा है. मामले की शिकायत सिविल लाइन थाना पुलिस को दी है. आगामी कार्रवाई पुलिस करेगी. बता दें कि प्रसव पूर्व गर्भ में लड़का या लड़की होने की जांच करना या दवाई देना अपराध है और ऐसी कोई दवाई अब तक नहीं बनी है, जिसके खाने से लड़का पैदा होता है.

बता दें कि महिला के खिलाफ धोखाधड़ी और ठगी की धाराओं के तहत केस दर्ज कराया गया है. इसमें तीन साल तक की सजा या जुर्माना दोनों का प्रावधान है. सिविल लाइन थाना में एएसआई और मामले के जांच अधिकारी अनिल कुमार ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की शिकायत पर महिला के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है. महिला को जांच में शामिल कर आगामी कार्रवाई की जा रही है.


<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here