छत्तीसगढ़ पहुंची COVID-19 वैक्सीन की पहली खेप, मेयर एजाज ढेबर ने किया दंडवत प्रणाम

0
25


मेयर एजाज ढेबर कोरोना वैक्सीन वाली गाड़ी को किया प्रणाम.

Corona Vaccine Reach Chhattisgarh: कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) की पहली खेप छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर (Raipur) पहुंच गई है. महापौर एजाज ढेबर ( Ejaz Dhebar) ने  कोरोना वैक्सीन वाली गाड़ी को झुककर दंडवत प्रणाम किया.

रायपुर. कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) की पहली खेप छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर (Raipur) पहुंच गई है. केंद्र सरकार की ओर से प्रदेश को तीन लाख 23 हजार टीके दिए गए हैं. बुधवार दोपहर  इंडिगो के विशेष विमान वैक्सीन के  27 बॉक्स रायपुर के माना एयरपोर्ट पहुंचे. वैक्सीन के खेप का स्वागत रायपुर के मेयर एजाज ढेबर ( Ejaz Dhebar) ने शानदार तरीके से किया, महापौर ने  कोरोना वैक्सीन वाली गाड़ी को झुककर दंडवत प्रणाम किया. जानकारी के मुताबिक, वैक्सीन को कड़ी सुरक्षा के बीच रायपुर के राज्य वैक्सीन भंडरणगृह रखा जाएगा. यहां से इसे सभी जिलों में वितरित करने की तैयारी की जाएगी.

छत्तीसगढ़ में स्वास्थ्य कर्मियों और अग्रिम मोर्चे पर काम कर रहे कर्मियों के टीकाकरण के लिए कोविशील्ड के तीन लाख से अधिक टीके उपलब्ध होंगे. राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि छत्तीसगढ़ में स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चे पर काम कर रहे कर्मियों के टीकाकरण के लिए टीकों की पहली खेप जल्द पहुंची है. स्वास्थ्य विभाग ने प्रोटोकॉल के अनुसार राज्य के सभी जिलों में टीकों के वितरण, परिवहन और भंडारण की व्यवस्था की है. राज्य में 13 जनवरी तक टीका पहुंचने की संभावना है.

ये भी पढ़ें: नालंदा गैंगरेप केस: सभी 7 आरोपी दोषी करार, कोर्ट ने सुनाई आजीवन कारावास की सजा

टीकाकरण की तैयारी पूरीअधिकारियों ने बताया कि राज्य के सभी जिलों में टीकाकरण के लिए पूर्वाभ्यास किया जा चुका है. छत्तीसगढ़ को भारत सरकार द्वारा पहली खेप में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ‘कोविशील्ड’ के तीन लाख 23 हजार टीके उपलब्ध होंगे. ये टीके आईसीएमआर द्वारा प्रमाणित हैं. उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने रायपुर विमानतल से राज्य वैक्सीन भंडार तक टीकों के परिवहन के लिए इंसुलेटेड वैक्सीन वेन की व्यवस्था की है. इसमें टीकों को अनुकूल तापमान दो डिग्री सेल्सियस से आठ डिग्री सेल्सियस तक रखा जाएगा.

राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉक्टर अमर सिंह ठाकुर ने बताया कि टीकाकरण के बाद किसी भी तरह की प्रतिकूल घटना या आपात स्थिति के प्रबंधन के लिए राज्य स्तर से लेकर टीकाकरण स्थलों तक एईएफआई (एडवर्स इवेंट फॉलोइंग इम्यूनाइजेशन) प्रबंधन प्रणाली को सुदृढ़ किया गया है. सभी टीकाकरण केंद्रों को नजदीकी एईएफआई प्रबंधन प्रणाली जैसे मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल या सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से जोड़ा गया है.उन्होंने बताया कि टीकाकरण के दौरान और बाद में जैव चिकित्सकीय अपशिष्टों के प्रबंधन के लिए भी समुचित व्यवस्था की गई है. सभी कोल्ड चैन प्वाइंट में डीप-पिट और शार्ट-पिट तैयार किया गया है. राज्य में वैक्सीन लॉन्च के लिए 99 केंद्र चिन्हित किए गए हैं.


<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here