छत्तीसगढ़: महिला का पति पर आरोप- मुस्लिम धर्म अपनाने जबरदस्ती गौ-मांस खिलाया Chhattisgarh: Woman’s husband accused

0
8


दुर्ग. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के दुर्ग (Durg) जिले के भिलाई (Bhilai) में 21 वर्षीय एक महिला ने अपने पति पर शादी के लिए जबरन धर्म परिवर्तन (Religion change) कराने और उसके साथ अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने का मामला दर्ज कराया है. भिलाई के छावनी थाने में दर्ज इस मामले में पति व ससुराल पक्ष के अन्य लोगों पर महिला ने गंभीर आरोप लगाए हैं. महिला का आरोप है कि हिंदू से मुस्लिम धर्म अपानने के लिए उसके साथ जबरदस्ती की गई. इतना ही नहीं जबरन उसे गाय का मांस भी खिलाया गया. महिला की शिकायत पर प्रारंभिक जांच के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है और मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया गया है.

छावनी पुलिस थाना प्रभारी विशाल सोन ने बताया कि महिला ने अपने पति और ससुराल वालों पर दहेज की खातिर प्रताड़ित करने का आरोप भी लगाया है. महिला की शिकायत के आधार पर उसके पति और उसके माता-पिता एवं भाई और भाभी के खिलाफ बीते बुधवार को छावनी पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने कहा कि महिला के पति, उसके पिता और भाई को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि उसकी मां और भाभी फरार हैं.

महिला ने लगाए गंभीर आरोप
दुर्ग जिले के छावनी इलाके के जेपी नगर की रहने वाली महिला ने पुलिस में दर्ज शिकायत में कहा है कि वह उसी इलाके के 25 वर्षीय व्यक्ति के साथ रिश्ते में थी. अधिकारी ने बताया कि पिछले साल दिसंबर में, महिला और वह व्यक्ति बिना किसी को बताए अपने घर से फरार हो गए, जिसके बाद उसके माता-पिता ने गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई थी. दोनों इस साल फरवरी में लौटे और छावनी पुलिस को सूचित किया कि उन्होंने कोलकाता में शादी की है और इसके समर्थन में दस्तावेज भी पेश किए. तब से महिला अपने ससुराल में रह रही थी.

अप्राकृतिक यौन संबंध बनाया
विशाल सोन ने बताया कि बीते बुधवार को महिला यहां थाने पहुंची और शिकायत दर्ज कराई कि उसके पति ने कोलकाता में शादी से पहले उसका जबरन धर्म परिवर्तन कराया और उस पर बीफ खाने का दबाव भी डाला. महिला ने आगे आरोप लगाया कि उसका पति उसके साथ अप्राकृतिक यौन संबंध बनाता था. उसने अपने ससुर, सास, पति के भाई और भाभी पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने का आरोप भी लगाया है. जांच अधिकारी के अनुसार, आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 377 (अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने का अपराध) और 498-ए (महिला के पति या उसके पति के परिजनों द्वारा महिला के खिलाफ क्रूरता) के तहत तथा छत्तीसगढ़ धार्मिक स्वतंत्रता अधिनियम 1968 तथा दहेज निषेध अधिनियम 1961 के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here