छत्तीसगढ़ BJP की बैठक में गैर-मौजूद रही रमण-धरम की जोड़ी, कयासों का बाजार गर्म

0
13


रायपुर. छत्तीसगढ़ बीजेपी (Chhattisgarh BJP) के अंदरखाने सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. पार्टी द्वारा बुलाई गई महत्वपूर्ण बैठक के पहले दिन रमन-धरम की जोड़ी की गैर-मौजूदगी की चर्चा होती रही. 15 वर्षों तक राज्य के मुख्यमंत्री रहने वाले डॉ. रमन सिंह (Raman Singh) और छत्तीसगढ़ बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष व नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक की अनुपस्थिति को लेकर दिनभर चर्चा होते रही. वहीं, दूसरे दिन रविवार को बीजेपी की प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी (D Purandeshwari) से जब यह पूछा गया कि वर्ष 2023 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी का चेहरा कौन होगा इसपर उन्होंने कुछ भी स्पष्ट नहीं कहा. जो यह बताता है कि बीजेपी राज्य में जो ऑल इज वेल फील कराना चाह रही है दरअसल वो उस स्थिति में नहीं है.

डी. पुरंदेश्वरी के साथ प्रेसवार्ता में ओबीसी वर्ग के धरमलाल कौशिक, अजय चंद्राकर, आदिवासी वर्ग से विष्णुदेव साय और एससी वर्ग से पुन्नुलाल मोहिले मंच पर बैठे थे. उनसे सवाल किया गया कि क्या यह तस्वीर भविष्य की हो सकती है. लेकिन प्रभारी बड़ी चतुराई से गेंद आलाकमान के पाले में डाल कर जवाब देने से कन्नी काट गई. इतना ही नहीं, छत्तीसगढ़ कोटे से केंद्रीय मंत्रियों से सवाल पर उन्होंने तल्ख लहजे में कहा कि केंद्रीय मंत्री होने से ही क्या राज्य को फंड मिलेगा. केंद्र के द्वारा जो फंड दिया जाना है वो दिया जा रहा है. राज्य सरकार लोगों के बीच झूठ फैला रही है.

बीजेपी की प्रदेश प्रभारी ऐसा बयान देंगी तो सत्तापक्ष के तो पौ बारह होंगे ही. बीजेपी पर तंज कसते हुए कांग्रेस के संचार प्रमुख शैलेष नितिन त्रिवेदी ने कहा कि केंद्रीय बीजेपी को छत्तीसगढ़ नेतृत्व पर अब भरोसा नहीं रह गया है.

ढाई-ढाई साल के फॉर्मूले पर तंज

छत्तीसगढ़ बीजेपी की दो दिवसीय मैराथन बैठकों के बाद जब प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी की पीसी शुरू हुई तो सरकार पर ढाई-ढाई साल के तंज के साथ हुई. उन्होंने कहा कि जो सरकार अपने लोगों से किया हुआ वादा पूरा नहीं कर पा रही है वो लोगों से किया वादा क्या पूरा करेगी. उन्होंने टीएस सिंहदेव और कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी पी.एल पुनिया का नाम लेते हुए कहा कि टीएस सिंहदेव को ढाई साल बाद मुख्यमंत्री बनाने का वादा किया गया था लेकिन उसे अब तक पूरा नहीं किया गया. जिससे यह तय है कि जो पार्टी अपने ही लोगों से किया वादा पूरा नहीं कर पा रही है वो आम जनता से किया हुआ अपना वादा कैसे पूरा करेगी.

खाद पर श्वेतपत्र लाने की मांग

कृषि प्रधान राज्य छत्तीसगढ़ में धान और किसान सदा से राजनीति के केंद्र बिंदु रहे हैं. यही वजह है कि खेती-किसानी का मौसम शुरू होते ही पक्ष-विपक्ष एक दूसरे पर हमलावर हो गए हैं. खाद की कमी को लेकर कांग्रेस के केंद्र सरकार को जिम्मेदार बताने के सवाल पर बीजेपी प्रभारी ने कहा कि अगर राज्य सरकार अपनी जगह ईमानदार है तो खाद की डिमांड और सप्लाई पर एक श्वेतपत्र जारी करे, जिससे यह तय हो जाएगा कि कौन किसान हितौषी है और कौन किसान विरोधी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here