जयंती विशेष : डॉ. राममनोहर लोहिया को खूब भाती थी चंबल की खूबसूरती

0
56


इटावा. देश में समाजवाद की अलख जगाने वाले समाजवादी नेता डॉ. राममनोहर लोहिया (Ram Manohar Lohia) की आज 112वीं जयंती है. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर प्रदेश भर में आज लोहिया जी की जयंती मनाई जा रही है. ऐसे में अगर उत्तर प्रदेश के इटावा जिले से जुड़े डॉ. राममनोहर लोहिया के संस्मरणों की चर्चा ना की जाए तो इसे बेमानी माना जाएगा.

इटावा डॉ. राममनोहर लोहिया की राजनीति के प्रमुख केंद्रों में से एक रहा है. लोहिया का प्रकृति से प्रेम का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वह ज्यादातर चंबल के किनारे ही रुकने में यकीन रखते थे.

आजादी के दौरान चंबल में कमांडर के नाम से लोकप्रिय रहे इटावा के पूर्व सासंद अर्जुन सिंह भदौरिया की पुस्तक ‘नींव के पत्थर’ में इस बात का जिक्र है कि डॉ. राममनोहर लोहिया को चंबल की खूबसूरती बेहद पसंद थी. इसी कारण वह जब कभी भी इटावा आया करते थे तो उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की सीमा पर स्थित उदी गांव में चंबल नदी के किनारे स्थापित गेस्ट हाउस में ही रुकते थे. यहां उनको शांत वातावरण में देश के मौजूदा राजनीति के विषय में सोचने-समझने में खासी मदद मिला करती थी. डॉ. लोहिया अपने समाजवादी साथियों के साथ हमेशा चंबल नदी के किनारे इसी डाक बगंले में रुकना बेहद पंसद भी करते थे, लेकिन आज यह डाक बंगला वक्त की मार सहते-सहते जर्जर हो चला है.

ये भी पढ़ें- अब जौनपुर में गरजा योगी आदित्यनाथ का बुलडोजर, भूमाफिया के अवैध गोदाम को प्रशासन ने ढहाया

डॉ. राममनोहर लोहिया 27 फरवरी 1958 को उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की सीमा पर स्थित उदी गांव के वन विभाग के इस डाक बंगले में आकर रुके थे. इटावा रेलवे रेलवे स्टेशन से उन्हें बिना किसी शोर-शराबे के उदी स्थित डाक बंगले पर ले जाया गया, जहां डॉक्टर राममनोहर लोहिया और उनके साथियों ने मर्मज्ञ कवि शिशुपाल सिंह शिशु के साहित्य को पढ़ने में अपनी खासी रुचि दिखाई. डॉ. राममनोहर लोहिया जब-जब इटावा आए, शिशुपाल सिंह शिशु से मिलने के लिए उनके घर पर जरूर गए. जिस वक्त सर्पदंश से उनकी मृत्यु की सूचना मिली, उस समय भी डॉ. लोहिया शिशु जी के घर पर शोक व्यक्त करने के लिए पहुंचे थे.

डॉ. लोहिया को मिलता था शांत वातावरण
जब-जब डॉ. लोहिया इटावा आए तो चंबल नदी के किनारे रमणीय स्थल का आनंद लेने से अपने आप को रोक नहीं पाए. वहां पर न केवल वह घंटों स्नान किया करते थे और नदी के किनारे घाटों को देखकर भी आनंद लेने से चूकते नहीं थे. उदी के रहने वाले वरिष्ठ पत्रकार महाराज सिंह भदौरिया बताते हैं कि डॉ. राममनोहर लोहिया दर्जनों बार इटावा आए, लेकिन अधिकाधिक चंबल नदी के किनारे स्थित इसी गेस्ट हाउस में ठहरे. चंबल नदी का किनारा डा. लोहिया का पसंदीदा स्थलों में से एक था.

‘नींव के पत्थर’ में जिक्र
कमांडर अर्जुन सिंह भदोरिया की पुस्तक ‘नींव के पत्थर’ में डॉ. राममनोहर लोहिया का चंबल से ताल्लुकात का जिक्र करते हुए लिखा गया है, ’27 फरवरी 1958 को होली से कुछ समय पूर्व ही एक सप्ताह के लिए डॉ. राममनोहर लोहिया चंबल नदी के किनारे स्थित डाक बंगले में रुकने के लिए आए. डा. लोहिया इसी डाक बंगले में 7 दिन तक रुके. इसी दौरान दिल्ली विश्वविद्यालय की प्रोफेसर सुश्री रमा मित्रा अपने एक साथी प्रोफ़ेसर के साथ में इटावा पहुंचीं. इटावा रेलवे स्टेशन पहुंचने पर जब उनको इस बात की जानकारी हुई कि उनको चंबल नदी के किनारे जाना है तो वह डर गईं, लेकिन जब उनको पूरी जानकारी दी गई तो वह संतुष्ट हुईं और जाने के लिए तैयार हो गईं.

ये भी पढ़ें- जौनपुर : जमीन विवाद में पुलिस पर हमला, 6 महिलाओं समेत 8 लोग गिरफ्तार

इटावा रेलवे स्टेशन से जीप के जरिये चंबल किनारे स्थित डाक बंगले तक पहुंचने के बाद जब प्रोफेसर ने अपनी घबराहट का जिक्र डॉ. लोहिया से किया तो वह काफी देर तक हंसते रहे. सभी लोग चंबल नदी के तट पर सैकड़ों फीट ऊंची चोटियों और चंबल नदी की स्वच्छ नीली जलधारा को देखकर मुग्ध हो गए. ये लोग एक सप्ताह तक रहे और प्रतिदिन शिशु जी के साहित्य का रसास्वादन करते रहे.

डॉ. राममनोहर लोहिया से प्रतिदिन मिलने के लिए आने वालों में इटावा के पंडित देवी दयाल दुबे, नगरपालिका के सदस्य मोहम्मद इस्माइल, प्रताप सिंह चौहान, महेश्वरी दयाल राजयादा तथा प्रकाश चंद्र सक्सेना आदि रहते थे और लंबा वक्त बिताकर रात को वापस लौट जाया करते थे.

आपके शहर से (इटावा)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

Tags: Etawah news, Samajwadi party



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here