ज्ञानवापी-श्रृंगार गौरी मंदिर विवाद: मुख्य वादी राखी सिंह वापस नहीं लेंगी मुकदमा, आज होगी अहम सुनवाई

0
41


वाराणसी. उत्तर प्रदेश सहित देशभर में इन दिनों सुर्खियां बटोर रहा ज्ञानवापी मस्जिद और मां शृंगार गौरी मंदिर केस में सोमवार को बड़ा मोड़ आता दिखा. श्रृंगार गौरी-ज्ञानवापी की पूजा को लेकर दायर याचिका में हिंदू पक्ष की ओर से राखी सिंह ने अपनी याचिका वापस लेने से इनकार कर दिया है. राखी सिंह समेत 5 महिलाओं ने याचिका दायर करके श्रृंगार गौरी के अंदर पूजा करने की मांग की थी. इसी आधार पर ही ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर सर्वे का काम हो रहा है. आज प्रतिवादी पक्ष की अधिवक्ता कमिश्नर बदलने की याचिका पर सुनवाई है. ज्ञानवापी वाले मामले में सुनवाई के लिए 12 बजे का समय निर्धारित था, लेकिन अभी एक पक्ष पहुंचा नहीं है. अदालत ने 2 बजे तक का समय दिया है.

राखी सिंह इस केस को पूरी तरह से लीड करेंगी. वादी पक्ष के वकील शिवम गौड़ ने बताया कि राखी सिंह अपना नाम वापस नहीं लेंगी, बल्कि किसी अन्य 5 मामलों में से एक में संशोधन किया जाना है. वकील ने बताया कि श्रृंगार गौरी वाले मामले में आज सिर्फ सुनवाई होनी है, जिसमें ज्ञानवापी मस्जिद का ताला तुड़वाने की मांग जाएगी, कोर्ट कमिश्नर में कोई दोष नहीं है.

क्या है पूरा मामला
काशी विश्वनाथ मंदिर और उसी परिक्षेत्र में स्थित ज्ञानवापी मस्जिद का केस भले ही वर्ष 1991 से वाराणसी के स्थानीय अदालत में चल रहा हो और फिर हाईकोर्ट के आदेश के बाद मामले की सुनवाई इलाहाबाद हाईकोर्ट में चल रही हो, लेकिन मां श्रृंगार गौरी का केस महज साढ़े 7 महीने ही पुराना है. 18 अगस्त 2021 को वाराणसी की पांच महिलाओं ने बतौर वादी वाराणसी के सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत में श्रृंगार गौरी मंदिर में रोजाना दर्शन-पूजन की मांग सहित अन्य मांगों के साथ एक वाद दर्ज कराया था, जिसको कोर्ट ने स्वीकार करते हुए न केवल मौके की स्थिति को जानने के लिए वकीलों का एक कमीशन गठित करने अधिवक्ता कमिश्नर नियुक्त करने और तीन दिन के अंदर पैरवी का आदेश दिया था.

Tags: Kashi Vishwanath Temple, UP news, UP Police उत्तर प्रदेश, Varanasi news, Varanasi Police, Yogi government



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here