दिल्ली-एनसीआर के 2 लाख वाहनों को अभी 2 महीने और झेलना होगा ट्रैफिक जाम

0
87


नोएडा. दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) के करीब 2 लाख वाहनों को अभी 2 महीने तक और जाम का झाम झेलना होगा. नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे (Noida-Greater Noida Expressway) के रास्ते दिल्ली (Delhi) से नोएडा-ग्रेटर नोएडा आने-जाने वालों को अभी थोड़ी परेशानी और उठानी पड़ेगी. एक्सप्रेसवे पर चल रहे री सरफेसिंग के काम को खत्म होने में अभी 2 महीने और लगेंगे. ऐसा दावा काम करने वाली कंपनी ने किया है. वहीं वक्त से काम न पूरा करने के चलते कंपनी पर 6 बार में 1.72 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लग चुका है. गौरतलब रहे नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर रोड री सरफेसिंग (Road Resurfecing) का काम चलने की वजह से सुबह-शाम पीक टाइम पर ट्रैफिक जाम (Traffic Jam) की परेशानी होने लगती है.

नोएडा ट्रैफिक पुलिस ने उठाए हैं यह कदम

रोड री-सरफेसिंग के दौरान नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे पर ट्रैफिक जाम न हो इसके लिए नोएडा ट्रैफिक पुलिस ने उस हिस्से में सीसीटीवी कैमरे लगा दिए हैं जहां री-सरफेसिंग का काम चल रहा है. ट्रैफिक पुलिस के कंट्रोल रूम में 24 घंटे कैमरों की मदद से निगरानी की जा रही है. जैसे ही लगता है की ट्रैफिक की गति कम हो रही है और जाम लग सकता है तो फौरन ही उस एरिया के आसपास डयूटी दे रहे ट्रैफिक पुलिस के जवानों को इसका मैसेज दे दिया जाता है. मैसेज मिलते ही जवान मौके पर पहुंच जाते हैं.

जून तक चलेगा रोड री-सरफेसिंग का काम

नोएडा अथॉरिटी पहली बार नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे को री-सरफेसिंग की तकनीक के साथ दोबारा से बनवा रही है. इस तकनीक की मदद से सड़क को खुरचकर उसी वेस्ट मैटेरियल को दोबारा से इस्तेमाल कर सड़क को बनाया जाता है. 24 किमी के नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे पर नोएडा अथॉरिटी का हिस्सा 20 किमी का है.

जानकारों की मानें तो यह काम साल 2021 में बहुत पहले ही खत्म हो जाना था. लेकिन कंसट्रक्शन कंपनी की लेट लतीफी के चलते साल 2022 भी आ गया. नोएडा अथॉरिटी की सीईओ रितु माहेश्वरी ने अब कंपनी को अल्टीमेटम जारी करते हुए एक बार फिर 75 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. इससे पहले कंपनी ने 20-20 और 10, 22 और 25 लाख रुपये का जुर्माना लग चुका है.

इस महीने शुरू हो जाएगा यमुना एक्सप्रेसवे को ईस्टर्न पेरिफेरल से जोड़ने का काम, जानें प्लान

4 बार आगे बढ़ चुका है रोड री-सरफेसिंग का काम

गौरतलब रहे नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर रोड री सरफेसिंग के काम के लिए 2019 में टेंडर प्रक्रिया शुरू हुई थी. लेकिन 2020 में कोरोना महामहारी के चलते यह काम 2021 जनवरी में शुरू हुआ. जून 2021 में काम खत्म होना था. लेकिन कंपनी लगातार काम को आगे बढ़ाते हुए वक्त की मोहलत मांगती रही. यह पहला मौका था जब इस काम की डेटलाइन 31 जुलाई 2021 कर दी गई.

इसके बाद भी काम पूरा नहीं हुआ तो नोएडा अथॉरिटी ने कंपनी को एक और मौका देते हुए इसकी डेटलाइन 30 नवंबर कर दी. और उसके बाद का हाल सबके सामने है. नवंबर के बाद भी 5 महीने बीत चुके हैं. काम अभी भी अधूरा है. अब अथॉरिटी की तरफ से एक और डेटलाइन 30 जून 2022 की दी गई है.

सेक्टर-168 में बन रहा है अंडरपास

सेक्टर-168 में एडवंट इमारत के पास का अंडरपास का काम चल रहा है. जानकारों की मानें तो काम अपने आखिरी वक्त में चल रहा है. एक्सप्रेसवे पर तीन अंडरपास बन रहे हैं. सबसे पहले इसी अंडरपास पर काम शुरू हुआ था. यहां अंडरपास की लागत करीब 47 करोड़ रुपये आ रही है. यह चार लेन का होगा. इसकी लंबाई करीब 60 मीटर होगी. इसके दोनों ओर अप्रोच रोड भी होगी, जो करीब 300 मीटर की होगी. यह सेक्टर-142 को सेक्टर-168 से जोड़ने का काम करेगा. इसका फायदा पास में ही बने मेट्रो स्टेशन पर आने वाले यात्रियों को भी मिलेगा.

Tags: Delhi-ncr, Noida Authority, Noida Expressway, Traffic Jam



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here