दिल्ली में आज CM योगी कर सकते हैं प्रत्याशियों के नाम पर चर्चा

0
18


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

पिछले दिनों लखनऊ में बीजेपी (BJP) की प्रदेश चुनाव समिति की बैठक में विधान परिषद चुनाव के लिए संभावित नामों पर चर्चा की गई. बैठक में प्रत्याशियों के संभावित नामों की सूची को स्वीकृति के लिए केन्द्रीय चुनाव समिति के पास भेंजने के लिए प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को अधिकृत किया गया.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में विधान परिषद चुनावों (UP MLC Elections) को लेकर बीजेपी रणनीति बनाने में मशगूल है. लखनऊ में हुई चुनाव समिति की बैठक के बाद आज सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) दिल्ली में बड़े नेताओं से मुलाकात कर विधानपरिषद के प्रत्याशियों के नाम पर चर्चा कर सकते हैं. 28 जनवरी को विधानपरिषद का चुनाव होना है. बीजेपी की दावेदारी 10 सीटों पर है और माना जा रहा है कि इन 10 सीटों में से 2 सीट पार्टी महिलाओं को देने का मन बना रही है.

भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश चुनाव समिति की बैठक पिछले दिनों पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह की अध्यक्षता में प्रदेश कार्यालय पर हुई. पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह  की उपस्थिति में हुई इस बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रीय महामंत्री अरूण सिंह, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और डॉ. दिनेश शर्मा, प्रदेश (संगठन) महामंत्री सुनील बंसल, कैबिनेट मंत्री  सूर्य प्रताप शाही, प्रदेश उपाध्यक्ष कान्ता कर्दम, राज्यमंत्री नीलिमा कटियार उपस्थित रहे.

केंद्रीय चुनाव समिति को लगानी है नामों पर अंतिम मुहरप्रदेश चुनाव समिति की बैठक में आगामी विधान परिषद चुनाव के लिए संभावित नामों पर चर्चा की गई. बैठक में प्रत्याशियों के संभावित नामों की सूची को स्वीकृति के लिए केन्द्रीय चुनाव समिति के पास भेंजने के लिए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को अधिकृत किया गया.

ये 12 सीटें हो रही हैं खाली

गौरतलब है कि विधानपरिषद में जो 12 सीटें खाली हो रही हैं, उनमें समाजवादी पार्टी के अहमद हसन, रमेश यादव, आशु मलिक, राम राजभर, वीरेंद्र सिंह और साहस सिंह सैनी हैं. बीजेपी के डॉ.दिनेश शर्मा, स्वतंत्रदेव सिंह और लक्ष्मण आचार्य और बहुजन समाज पार्टी के धर्मवीर सिंह अशोक, प्रदीप कुमार जाटव और नसीमुद्दीन सिद्दीकी का कार्यकाल खत्म हो रहा है. इनमें नसीमुद्दीन सिद्दीकी कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं. उनकी विधानपरिषद की सदस्यता खत्म की जा चुकी है. चुनाव मे बीजेपी 10 सीट जीत सकती है. 2 में से 1 सीट समाजवादी पार्टी आराम से जीत सकती है, जबकि दूसरी सीट के लिए सपा को बसपा, कांग्रेस और निर्दलीय की भी जरूरत पड़ेगी.

पंचायत चुनाव पर भी तैयार हुई रणनीति

इसके साथ ही बैठक मे पंचायत चुनाव की व्यूह रचना तैयार की गई. आगामी 7 जनवरी से 17 जनवरी तक प्रवास के कार्यक्रम तय हुए. प्रवास कार्यक्रमों के माध्यम से पार्टी त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की रणनीति कार्यकर्ताओं तक पहुंचाएगी.


<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here