दिल्ली में नाइट कर्फ्यू से नोएडा वालों की बढ़ी परेशानी, 28 सोसायटी कंटेनमेंट जोन घोषित

0
88


दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगने से नोएडा के लोगों की परेशानी बढ़ गई है.

नोएडा (Noida) से रोज दिल्‍ली आने-जाने वाले लोग नाइट कर्फ्यू (Night curfew) के फैसले से परेशान दिख रहे हैं. उनका कहना है कि इससे उनके काम-काज में रुकावट आएगी, अभी ई-पास पर भी स्थिति साफ नहीं हुई है.

नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली (Delhi) में नाइट कर्फ्यू लगने से नोएडा (Noida) वालों की परेशानी बढ़ गई है. नौकरी, बिजनेस और अन्य काम के सिलसिले में बड़ी संख्या में लोगों दिल्ली से नोएडा और नोएडा से दिल्ली आना-जाना है. लोगों को ई-पास (E- Pass) और पाबंदियों को लेकर चिंता सताने लगी है. अब देखना यह है कि जिला प्रशासन इसको लेकर क्या कदम उठाता है. क्या नोएडा से पास जारी किए जाएंगे या उन्हें दिल्ली प्रशासन की ओर से जारी पास पर यात्रा करनी होगी. इसको लेकर लोगों के मन में एक तरह की आशंका बनी हुई है.

ई-पास को लेकर कन्फ्यूजन हैं लोग

सेक्टर- 34 अरावली अपार्टमेंट में रहने वाले भूपेंद्र पारीक की मां का इलाज जयपुर में चल रहा है. उनका कहना है कि अक्सर नोएडा से जयपुर आना-जाना पड़ता है. परिवार के लोग ही उन्हें स्टेशन पर छोड़ने जाते हैं. अब दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगने के बाद बिना ई-पास के वापसी में समस्या होगी. अभी ई-पास को लेकर भी कन्फ्यूजन है.

दिल्ली के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में अब OPD की सुविधाओं में हुई कटौती, जानें क्या है कारणसोसायटियों में संक्रमण, 28 कंटेनमेंट जोन घाषित

जिले में कोरोना वायरस एक बार फिर तेजी से फैल रहा है. ग्रेनो वेस्ट की सोसायटियों में हालात ज्यादा खराब हैं. यहां संक्रमण के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं. इसकी वजह से जिले में हॉटस्पॉट और कंटेनमेंट जोन की संख्या अब 28 हो गई है. नए संक्रमित मिलने के बाद एसडीएम ने सोमवार को इन जगहों को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है. ज्यादातर नए कंटेनमेंट जोन बिसरख ब्लॉक के ही अंतर्गत आते हैं. कंटेनमेंट जोन में किसी को परेशानी न हो इसके लिए एक टीम लगाई गई है. संबंधित अधिकारियों का कहना है कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए सभी प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं.

जिले में कोरोना के जहां सबसे अधिक केस हैं उनमें गौर सिटी और महागुन माइवुड्स शामिल हैं. जिले के अन्य भागों में भी कोरोना तेजी से पैर पसारने लगा है. ग्रेनो वेस्ट के गौर सिटी में कई लोग कोरोना की चपेट में हैं. दादरी के जलपुरा गांव में भी कोरोना के मरीज मिले हैं.
ग्रामीण क्षेत्रों के लिए भी दिशा-निर्देश जारी

ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए जिला प्रशासन की ओर से कई दिशा-निर्देश जारी किए हैं. अब अगर किसी गांव में कोरोना का केस मिलता है तो उसके आसपास के इलाके को कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा. एक से अधिक केस होने पर आसपास का इलाका बफर जोन घोषित कर दिया जाएगा.



<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here