दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे से मेरठ की ओर जाने वालों का 15 अगस्‍त के बाद बचेगा समय, जानें कैसे

0
4


नई दिल्‍ली. दिल्‍ली मेरठ एक्‍सप्रेसवे (Delhi-Meerut Expressway) से दिल्‍ली से मेरठ की की ओर जाने वाले हजारों वाहन चालकों का 15 अगस्‍त के बाद समय बचेगा. गाजियाबाद में बन रहा चिपियाना आरओबी (Chipiyana ROB) बनकर तैयार हो जाएगा. इसके बाद दिल्‍ली से मेरठ तक वाहन चालक सीधा फर्राटा भर सकेंगे, यानी बीच में कहीं भी उन्‍हें जाम में नहीं फंसना पड़ेगा. एनएचएआई (NHAI) ने आरओबी से ट्रैफिक चलाने की डेड लाइन की घोषणा कर दी है.

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर एक अप्रैल 2021 से ही वाहन दौड़ने शुरू हो चुके हैं, लेकिन चिपियाना आरओबी का निर्माण पूरा नहीं हो पाया. वाहन चालकों की सुविधा के लिए पूरा मेरठ एक्‍सप्रेसवे खोल दिया गया था. एनएचएआई ने अब टोल वसूली भी शुरू कर दी है, इसलिए आरओबी का निर्माण जल्द से जल्द पूरा करने की कोशिाश की जा रही है. रेलवे से ट्रैफिक ब्लॉक मिलने के बाद एनएचएआई ने इस सप्‍ताह आरओबी का गर्डर रखने का काम पूरा कर लिया है. यानी रेलवे ट्रैक के दोनों ओर बनाए गए पिलर्स पर

गर्डर रख दिए गए.

एनएचएआई के प्रोजेक्‍ट डायरेक्‍टर अरविंद कुमार बताते हैं 15 जुलाई तक ढांचा रखने का काम पूरा कर लेने के बाद सड़क निर्माण शुरू करा दिया जाएगा. चिपियाना आरओबी 15 अगस्त तक बनकर तैयार हो जाएगा. अगस्त में इस पर वाहन फर्राटा भरने लगेंगे. हाल ही में आरओबी का गर्डर लांच कर दिया गया है, अब 2385 टन वजनी लोहे का ढांचा इस पर रखा जाएगा. हालांकि पिलर्स पर गर्डर रख दिए गए हैं लेकिन अभी लोहे का ढांचा रखना बाकी है. एशिया में सबसे भारी 2385 टन वजनी ढांचे (बॉक्स) को इन गर्डर पर रखने का काम 26 जून को किया जाएगा.

रोजाना गुजर रहे हैं 52 हजार से अधिक वाहन

एक्‍सप्रेस-वे से रोजाना करीब 52000 से अधिक वाहन गुजर रहे हैं. इसमें दिल्‍ली से मेरठ आने और जाने वाले वाहन चालक शामिल हैं. चिपियाना आरओबी का काम पूरा होने के बाद वाहन वालकों को सुविधा होगी. सामान्‍य दिनों में आफिस ऑवर में यहां पर वाहन चालकों का 10 मिनट मे का समय आरओबी निर्माण की वजह से बर्बाद होता था, जो बच सकेगा.

Tags: Meerut Delhi Expressway Inaugurated, NHAI



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here