दुनिया के महंगे खेलों में शुमार गोल्फ, जानिए इसके नियम और खास बातें

0
10


नई दिल्ली. गोल्फ (Golf) को हमेशा से ऐसा खेल माना जाता है जिसकी पहुंच आमतौर पर अमीरों तक मानी जाती है. बड़े-बड़े मैदानों में हाथ मे गोल्फ स्टिक लेकर खेलते लोगों को देखकर लोगों में इस खेल को लेकर दिलचस्पी जरूर पैदा होती हैं. दुनिया के सबसे अमीर खिलाड़ियों में अकसर गोल्फ  के खेल से ही जुड़े होते हैं.

यूरोप में हुई खेल की शुरुआत
इस खेल के आविष्कार को लेकर कोई सटीक जानकारी नहीं है लेकिन ऐसा माना जाता है कि इसकी खोज 17वीं शताब्दी के आसपास यूरोप में किया गया जिसके बाद ये खेल अमेरिका में लोकप्रिय हुआ और फिर वहां से विश्वभर में प्रचलित हुआ. गोल्फ में नीचा स्कोर अच्छा होता है. गोल्फर को हर-एक गेंद को क्लब से मारने पर एक अंक मिलता है, जिसका मतलब क्लब को सबसे काम स्विंग किये गेंद को हर छेद में पहुचाने वाला विजेता घोषित किया जाता है.

कैसे की जाती है स्कोरिंगपार: यह नंबर हर छेद से जुड़ा होता है, जिसका मतलब एक श्रेष्ट गोल्फर को इतने ही स्विंग में गेंद को छेद में डालना होता है. इस नंबर के अंदर, बॉल को छेद में पहुचने वाले गोल्फर को उस निर्धारित छेद के लिए “ऑन पार” कहा जाता है.

बोगीस: बोगी स्कोर, पार स्कोर से एक पॉइंट ऊपर होता है. अगर गोल्फर गेंद को छेद में डालने के लिए एक स्विंग ज्यादा लेता है, तो उसे ‘डबल बोगी’ इसके बाद ‘ट्रिपल बोगी’ और इसी तरह हर एक स्विंग के लिए कहा जाता है.

ईगल: स्कोर जो पार 4 से दो पॉइंट नीचे होता है उसे ईगल कहते हैं.
होल इन वन: प्रारंभिक पोजीशन से अगर कोई गोल्फर गेंद को छेद में डालता है, तो उसे होल इन वन कहते हैं.

जानिए कैसा होता है गोल्फ कोर्स

टी बॉक्स को मिलाकर हर एक गोल्फ कोर्स में 5 बुनियादी पार्ट होते हैं. कोर्स के बंकि पार्ट नीचे बताये गए हैं. फेयरवे: टी बॉक्स और ग्रीन के बीच में मौजूद कटा या ट्रिम किया गया जगह को फेयरवे कहते हैं.

रफ़: फेयरवे के बॉर्डर पर मौजूद कम घास वाले जगह को रफ़ कहते हैं.

पुटिंग ग्रीन: पुटिंग ग्रीन या ग्रीन के नजदीक फेयरवे का हर छेद मौजूद होता है.

हजार्ड: इसे ट्रैप कहते हैं, इसे जानबूझकर गोल्फ कोर्स में रखा या बनाया जाता है ताकि गेंद को छेद तक पहुचने में कठिनाई आये, सैंड ट्रैप या पानी का जमाव सामान्य हजार्ड होता है.

खेल के सबसे बड़े दिग्गज
इस खेल में अमेरिका को सबसे आगे माना जाता है क्योंकि विश्व रैंकिंग में यूएसए के ज्यादातर पुरुष खिलाड़ी शिर्ष रैंकिंग में होते हैं. हालांकि रियो ओलिंपिक 2016 में पुरुषों के इवेंट को ग्रेट ब्रिटेन के जस्टिन रोज (Justin Rose) ने जीता था, तब वो दुनिया में 11वें स्थान पर थे. रोज ने इस दौरान एक नहीं बल्कि दो इतिहास रचे. उन्होंने पहली बार होल-इन-वन रिकॉर्ड बनाया जबकि 112 साल बाद पहले ओलिंपिक चैंपियन बने. स्पेन, स्वीडन और ऑस्ट्रेलिया से भी कई प्रतिभावान गोल्फर सामने आए हैं.
महिला गोल्फ में कोरिया गणराज्य एक बड़ी ताकत है. रियो ओलिंपिक 2016 में जहां प्रत्येक देश को विश्व रैंकिंग में शीर्ष 15 स्थानों से चार एथलीटों को भेजने की अनुमति दी गई थी वहीं कोरिया गणराज्य ने दुनिया के शीर्ष आठ में से चार खिलाड़ियों को मैदान में उतारा था. उस समय दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी इनबी पार्क ने स्वर्ण पदक जीता था.

नहीं होता कोई जज
गोल्फ की सबसे आकर्षक विशेषता ये है कि इसमें कोई भी रेफरी या जज नहीं होता, इससे ये पता चलता है कि इस खेल में कितनी निष्पक्षता और विश्वास है, सभी खिलाड़ी सद्भावना की भावना से खेलते हैं जानबूझकर गलत व्यवहार नहीं करते. यही वजह है कि गोल्फरों को सही और योग्य ओलिंपियन माना जाता है



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here