देह व्यापार के लिए भारत आई थी उजबेकिस्तानी लड़की, वापस जाने का बनाया था पक्का प्लान, लेकिन हो गई गिरफ्तार

0
73


हाइलाइट्स

नेपाल से भारतीय कारोबारियों करण और संदीप ने मिलकर उसे सड़क मार्ग से दिल्ली बुला लिया.
सोख्सनम को नेहा शर्मा नाम से फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस और इसी नाम से फर्जी परिचय पत्र दिया गया.
करण के इशारे पर सोख्सनम ने 4 महीने तक दिल्ली में कस्टमर्स के पास जाती रही.

महाराजगंज: भारतीय आव्रजन अधिकारियों के द्वारा गिरफ्तार उज्बेकिस्तान मूल की रहने वाली महिला की कहानी उलझ गई है. मुखबिर की सूचना पर नेपाल जाते समय एसएसबी पुलिस और आव्रजन की संयुक्त टीम ने उज्बेकिस्तान की महिला को गिरफ्तार कर लिया था. इस दौरान महिला के पास वीजा और पासपोर्ट नहीं मिला था। इमिग्रेशन (आव्रजन) अधिकारियों की जांच के बाद कई बड़े खुलासे सामने आए हैं, जो देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं.

आव्रजन अधिकारियों की पूछताछ में पता चला कि 31 वर्षीय सोख्सनम नाम की महिला घरेलू कामकाज के लिए ओमान गई थी. वहां हयात नाम की एक महिला ने उसे भारत में देह व्यापार करने के लिए प्रेरित किया और अपने पुरुष मित्र के सहारे भारत भेजने का मन बनाया. उसके लिए सोख्सनम को ओमान से श्रीलंका और श्रीलंका से फिर हवाई मार्ग से ही काठमांडू नेपाल पहुंची. दिल्ली में देह व्यापार से जुड़े लोगों ने उसे नेहा शर्मा नाम से फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस बनवाकर दिया.

नेपाल से भारतीय कारोबारियों करण और संदीप ने मिलकर उसे सड़क मार्ग से दिल्ली बुला लिया और उसे रहने खाने का इंतजाम कर दिया. सोख्सनम को नेहा शर्मा नाम से फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस और इसी नाम से फर्जी परिचय पत्र बनवाकर दिया गया. इसके बाद उससे देह व्यापार कराया जाने लगा. हालांकि करण के इशारे पर सोख्सनम ने 4 महीने तक दिल्ली में कस्टमर्स के पास जाती रही. वह उसे केवल खर्चे का पैसा ही देता था. इसके साथ ही उसका उज्बेकिस्तानी पासपोर्ट करण ने अपने पास रख लिया था.

एक लड़के की मदद से दिल्ली से भागकर सोख्सनम चंडीगढ़ पहुंची
दिल्ली के करण द्वारा पासपोर्ट रख लेने और पैसा ना देने के कारण उज़्बेकिस्तानी महिला सोख्सनम देह व्यापार करने वाले विशाल की मदद से चंडीगढ़ भाग गई और वहां करीब 2 महीने तक देह व्यापार में लिप्त रही. उजबेक महिला ने लाखों रुपए इकट्ठा कर लिया तो उसने उजबेकिस्तान वापस जाने का प्लान बनाया. नेपाल के एक व्यक्ति की मदद से वह अपने देश उज़्बेकिस्तान जाना चाहती थी, इसके लिए उसने चंडीगढ़ से अपने दो पुरुष सहयोगियों के साथ सोनौली बॉर्डर पहुंची.

वहां से वह काठमांडू जाने वाली थी लेकिन इसी बीच मुखबिर की सूचना पर बिना वीजा और पासपोर्ट के भारत में रहने वाली उजबेक महिला को गिरफ्तार कर लिया गया. उसके पास से कुल ₹75000 भारतीय और लाखों रुपये विदेशी करेंसी भी बरामद हुई है. अब उज्बेकिस्तानी महिला को 14ए विदेशी अधिनियम के तहत गिरफ्तार कर लिया गया है.

Tags: Delhi news, Maharajganj News, Sex racket, UP crime, UP news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here