पप्पू यादव की रिहाई की मांग को लेकर जाप नेता भूख हड़ताल पर, सरकार पर लगाया आरोप– News18 Hindi

0
15


पटना. जन अधिकार पार्टी (JAP) के नेता पप्पू यादव की रिहाई सहित अपनी पांच सूत्री मांगों को लेकर पार्टी के अन्य नेताओं ने सोमवार को राज्यव्यापी भूख हड़ताल (Hnger Strike) शुरू की. जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव (pappu yadav) की रिहाई और बढ़ती महंगाई सहित पांच सूत्री मांगों को लेकर यहां आयोजित इस भूख हड़ताल कार्यक्रम में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राघवेन्द्र कुशवाहा (Raghavendra Kushwaha) ने आरोप लगाया कि कोरोना पीड़ितों की मदद कर रहे पूर्व सांसद पप्पू यादव द्वारा बिहार सरकार की नाकामियों को उजागर किया गया था. इससे घबराकर राज्य सरकार ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है.

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए जाप के राष्ट्रीय महासचिव व प्रवक्ता प्रेमचन्द सिंह ने आरोप लगाया कि सरकार के पास कीमतें बढ़ने के हर तर्क मौजूद हैं, मगर उन्हें रोकने का एक भी उपाय नहीं है. जाप की पांच सूत्री मांगों में पप्पू यादव की रिहाई, बढ़ती महंगाई पर रोक, बाढ़ प्रभावितों के लिए पर्याप्त राहत कार्य, ओबीसी आरक्षण को जारी रखना और सरकारी संस्थानों के निजीकरण पर रोक लगाना शामिल है. गौरतलब है कि पप्पू यादव को 32 साल पुराने अपहरण के एक मामले में 11 मई को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है.

पार्टी ने भी एक मुहिम शुरू की थी
बता दें कि जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह पूर्व सांसद पप्पू यादव की रिहाई व उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिए जन अधिकार युवा परिषद ने 16 मई को भी एक मुहिम शुरू की थी. पार्टी के युवा परिषद ने इस मुहिम का नाम #MissedCallForPappuYadav दिया था. परिषद ने बिहार समेत देशभर के लोगों से अपील की थी कि लोग टोल फ्री नंबर 9772268859 पर मिस्ड कॉल कर समर्थन दें. तब युवा परिषद के प्रदेश अध्यक्ष राजू दानवीर ने कहा था कि पप्पू यादव जनता के सेवक हैं. जब भी जनता मुसीबत में पड़ती है, तो सबसे पहले पप्पू यादव और जन अधिकार पार्टी आगे आकर निःस्वार्थ भाव से उनकी सेवा और मदद करती रही है. उन्होंने सेवा को कभी राजनीति से नहीं जोड़ा. आज सरकार ने सुनियोजित साजिश के पप्पू यादव को जेल भेज दिया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here