फर्नीचर के पैसे मांगने पर बुलडोजर चलाना पड़ा महंगा; पहले सस्पेंड, अब इस मुसीबत में फंसा निलंबित SDM

0
10


फरीद शम्सी, मुरादाबाद: उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद की बिलारी तहसील के निलंबित एसडीएम घनश्याम वर्मा के खिलाफ फर्नीचर कारोबारी ने इंसाफ न मिलने पर कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. पीड़ित कारोबारी ने अपने अधिवक्ता के माध्यम से इंसाफ की मांग करते हुए निलंबित एसडीएम के खिलाफ कार्रवाई की मांग है. बीते दिनों मुरादाबाद में फर्नीचर के पैसे मांगने पर कारोबारी के मकान पर बुलडोजर चलवाने वाले एसडीएम घनश्याम वर्मा को प्रशासन ने निलंबित कर दिया था. हालांकि, पीड़ित परिवार एफआईआर दर्ज न होने से नाराज है.

मुरादाबाद की बिलारी तहसील में रहने वाले फर्नीचर कारोबारी जाहिद हुसैन के मुताबिक, निलंबित एसडीएम बिलारी घनशयम वर्मा ने उनसे 2 लाख 68 हजार रुपए का फर्नीचर लेने के बाद उसके पैसे न देकर उल्टा उनके परिसर को बुलडोजर से गिरवा दिया था. पीड़ित के मुताबिक, मुरादाबाद के बिलारी तहसील में तैनात एसडीएम घनश्याम वर्मा ने अपनी पावर का गलत इस्तेमाल करते हुए उसके घर पर बुलडोजर चलवा दिया था और फर्नीचर के बिल के पैसे देने को भी साफ़ मना कर दिया था.

इसके बाद फर्नीचर कारोबारी जाहिद ने मुरादाबाद मंडल के कमिश्नर के साथ ही मुरादाबाद के डीएम से एसडीएम की लिखित शिकायत की थी. शिकायत का संज्ञान लेते हुए मुरादाबाद मंडल के कमिश्नर ने पूरे मामले की जांच एडीएम प्रशासन सुरेंद्र सिंह को सौंपी थी. जांच में एडीएम प्रशासन ने अपनी रिपोर्ट में बिलारी एसडीएम घनश्याम वर्मा को दोषी पाया था और कमिश्नर को रिपोर्ट सौंप दी थी.

कमिश्नर ने उस जांच रिपोर्ट पर एसडीएम पर कार्यवाई की सिफारिश कर उत्तर प्रदेश शासन को भेज दी थी. कमिश्नर की रिपोर्ट पर शासन ने एसडीएम घनश्याम वर्मा पर एक्शन लेते उन्हें निलंबित कर दिया था, लेकिन पीड़ित फर्नीचर कारोबारी जाहिद हुसैन इस करवाई से सन्तुष्ट नहीं है. अब कारोबारी जाहिद ने कोर्ट का सहारा लेते हुए धारा 156/3 में वाद दायर कर इंसाफ की मांग की है.

पीड़ित कारोबारी का आरोप है के एडीएम की जांच में दोषी पाए जाने के बाद भी एसडीएम घनश्याम वर्मा पर पुलिस ने कोई एफआईआर दर्ज नहीं की है. फर्नीचर व्यापारी जाहिद हुसैन का कहना है कि उसने थाना बिलारी और मुरादाबाद के एसएसपी और जिला प्रशासन को लिखित शिकायत दी थी मगर जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो उन्होंने कोर्ट में परिवाद दायर किया है. जाहिद हुसैन का कहना है कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार सभी समुदायों को साथ लेकर चल रही है, मुझे भी इंसाफ मिला है, लेकिन मेरी मुकदमा दर्ज नही हुआ है.

जाहिद हुसैन का कहना है कि उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ ऐसे पहले मुख्यमंत्री हैं, जो सभी समुदाय को साथ लेकर चल रहे हैं. एसडीएम बिलारी पर हुई कार्रवाई से यह साबित भी हो गया है कि मुस्लिम समुदाय के हित में भी योगी सरकार काम कर रही है. जाहिद हुसैन ने योगी सरकार शुक्रिया भी किया. वहीं पीड़ित फर्नीचर कारोबारी जावेद हुसैन के अधिवक्ता पी के गोस्वामी के मुताबिक, पुलिस किसी न किसी दबाव में है और वह कार्रवाई नहीं कर रही है. इसलिए अब वह न्यायालय का सहारा लेकर पीड़ित फर्नीचर कारोबारी जाहिद हुसैन को इंसाफ दिलाने का प्रयास कर रहे हैं और उन्हें उम्मीद है कार्यालय से जाहिद हुसैन को पूरा इंसाफ मिलेगा.

Tags: Moradabad News, Uttar pradesh news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here