फर्राटा भरने को बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे तैयार, 3200 KM हाई स्पीड सड़क से UP के विकास को और मिलेगी रफ्तार

0
35


नई दिल्ली: आगामी 16 जुलाई को जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करेंगे तो उसके साथ ही उत्तर प्रदेश में 1,225 किमी लंबे एक्सप्रेसवे का ऑपरेशनल नेटवर्क स्थापित हो जाएगा. इसके अलावा, 1974 किमी का एक्सप्रेसवे भी तैयार हो रहा है, जिसके बाद उत्तर प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य होगा जिसके पास 13 एक्सप्रेसवे का शानदार नेटवर्क होगा. आने वाले कुछ सालों में जब यह नेटवर्क तैयार हो जाएगा, तो इसके बाद यूपी के पास 3200 किमी का एक्सप्रेसवे नेटवर्क हो जाएगा, जो कई देशों के सड़क नेटवर्क से ज्यादा है.

इन 13 एक्सप्रेसवे में से 6 बनकर तैयार हैं, जिनमें से एक का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 जुलाई को जालौन में 296 किमी लंबे बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करेंगे. उत्तर प्रदेश के पास अभी 5 चालू एक्सप्रेसवे हैं, जिनमें ग्रेटर नोएडा से आगरा (165 किमी) का यमुना एक्सप्रेसवे, नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे (25 किमी), आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे (302 किमी), दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे (92 किमी) और पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, लखनऊ से गाजीपुर (341 किमी) शामिल हैं.

उत्तर प्रदेश में 1974 किमी के सात और एक्सप्रेसवे हैं, जो निर्माणाधीन हैं या योजना के अंतिम चरण में हैं. राज्य का सबसे लंबा गंगा एक्सप्रेसवे जो मेरठ को प्रयागराज (794 किमी) से जोड़ेगा, उसकी नींव प्रधानमंत्री ने इस साल की शुरूआत में ही रखी थी. इसके अलावा, गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे (91 किमी ), लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेसवे (63 किमी), ग़ाजियाबाद-कानपुर एक्सप्रेसवे (380 किमी), दिल्ल-सहारनपुर-देहरादून एक्सप्रेसवे (210 किमी), गोरखपुर-सिलीगुड़ी एक्सप्रेसवे (519 किमी) और गाजियाबाद-बलिया-मांझीघाट एक्सप्रेसवे (117 किमी) हैं.

यूपी में चल रहीं इन परियोजनाओं में से कुछ राज्य सरकार और बाकी केंद्र के अधीन हैं. यूपी सरकार के एक अधिकारी का कहना है कि राज्य में जो 3200 किमी लंबा एक्सप्रेसवे नेटवर्क है, उतना कई देशों में भी नहीं है. योगी आदित्यनाथ सरकार ने जोर देते हुए कहा है कि उनके सत्ता में आने से पहले पिछले 70 सालों में राज्य में महज 3 एक्सप्रेसवे बने थे. कई एक्सप्रेसवे के साथ ही औद्योगिक कॉरिडोर भी तैयार किए जा रहे हैं, जिससे राज्य में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है.

यूपी ने ज्यादा से ज्यादा फास्ट लिंक संपर्क बना रहे, इसके लिए यह सुनिश्चित किया है कि विभिन्न एक्सप्रेसवे एक दूसरे के साथ जुड़े रहें. मसलन दिल्ली से चित्रकूट तक की 630 किमी की लंबी यात्रा को महज छह घंटे में पूरा किया जा सकता है. इसके लिए नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे से यमुना एक्सप्रेसवे पर सफर करके आगरा लखनऊ एक्सप्रेसवे पर 135 किमी चलना होगा, फिर इटावा से बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे लेकर यात्रा पूरी की जा सकती है.

Tags: Bundelkhand Expressway, Uttar pradesh news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here