फ्री बिजली की घोषणा कर बुरे फंसे उर्जा मंत्री, बिजली नहीं मिलने पर विपक्ष ने घेरा – News18 Hindi

0
8


देहरादून. एक तरफ रविवार को बीजेपी ने कांग्रेस के विधायक राजकुमार को पार्टी में शामिल कराया तो दूसरी तरफ देहरादून ज़िले में बीजेपी के अंदर मचा बवाल सड़क पर आ गया. रायपुर विधानसभा (Raipur Assembly) में कार्यकर्ताओं ने बकायदा मीटिंग करके अपने विधायक उमेश शर्मा काऊ (Umesh Sharma Kau) को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाने की मांग कर डाली.

रविवार को उत्तराखंड बीजेपी में दिल्ली से लेकर देहरादून तक माहौल गर्म रहा. देहरादून जिले की रायपुर सीट पर विधायक उमेश शर्मा काऊ से नाराज चल रहे कार्यकर्ताओं ने एक जनसभा की. रायपुर के मालदेवता में ये जनसभा हुई. जनसभा में विधायक उमेश शर्मा को इस बार टिकट न देने और उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाने की मांग उठाई गई.

दरअसल, 4 सितंबर को रायपुर विधानसभा में विधायक काऊ कैबिनेट मंत्री धन सिंह की मौजूदगी में पार्टी से जुड़े एक जिला पंचायत के सदस्य के साथ भिड़ गए थे. इस झगड़े का एक वीडियो वायरल हो गया, जिसमें काऊ औकात में रहने की बात कही जा रही है. इसी वीडियो में वो मंत्री धन सिंह रावत पर भी नाराज हो रहे हैं कि आप पार्टी के इन लोगों को लेकर क्यों आ गए. यदि आप लाए हैं, तो कार्यक्रम भी आप ही कर लीजए. इस वीडियो से पार्टी की खूब फजीहत हुई.

जनसभा में मौजूद उत्तराखंड दैवीय आपदा प्रबंधन समिति के अध्यक्ष मदन सिंह चौहान, पूर्व मंढल अध्यक्ष, बीजेपी कलम सिंह चौहान, क्षेत्र पंचायत सदस्य बालम सिंह चौहान, जिला पंचायत सदस्य वीर सिंह चौहान का कहना है कि विधायक का जनप्रतिनिधियों के साथ ऐसा व्यवहार उचित नहीं है. उनका कहना है कि ऐसे विधायक को पार्टी से तत्काल बाहर किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि यदि पार्टी ऐसा नहीं करती, तो फिर क्षेत्र के लोग अपना निर्णय लेंगे.

दिल्ली तक हो आए काऊ, नहीं हुआ फैसला

2016 में कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आए विधायक उमेश शर्मा काऊ को लगता है कि पार्टी का एक वर्ग उनको एडजस्ट नहीं कर पा रहा है. काऊ का कहना है कि एक धड़ा लगातार उनके खिलाफ काम करता आ रहा है. वीडियो वायरल होने के बाद विधायक काऊ दिल्ली तक हो आये. मामले पर फैसला फिलहाल नहीं हुआ है, लेकिन पार्टी कार्यकर्ता एक्शन के लिए दबाव बना रहे हैं. विधायक उमेश शर्मा का कहना है कि ये पार्टी का मामला है. मैने अपनी बात रख दी है, बाकि पार्टी संगठन को देखना है. हालांकि, वो ये भी कहते हैं कि उनके खिलाफ जो जनसभा की जा रही है, उसमें ज्यादा लोग दूसरी विधानसभा के हैं.

रायपुर विधानसभा सीट पर मचा है आपसी बवाल

रायपुर विधानसभा सीट पर मचा ये बवाल तू-तू मैं-मैं से ज्यादा बागी और मूल भाजपाइयों के बीच का है. जिसने पार्टी की भी चिंता बढ़ा दी है. चिंता ये कि विधानसभा चुनाव से ठीक पहले शुरू हुए इस बवाल ने और तूल पकड़ा तो और सीटों पर भी ये सीन देखने को मिल सकता है. 2016 में कांग्रेस छोड़कर आए कई बागी बीजेपी सरकार में मंत्री हैं.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here