बंगाल हिंसा पर आहत कंगना रनौत, रो-रोकर कर डाली राष्ट्रपति शासन की मांग

0
26


कंगना रनौत की भारत सरकार को सलाह (फोटो साभार : kanganaranaut /Instagram)

कंगना रनौत (Kangana Ranaut) एक बार बार फिर सुर्खियों में हैं. बंगाल हिंसा (Bengal violence) पर पोस्ट करने पर कंगना के ट्विटर अकाउंट को सस्पेंड कर दिया गया है. अब कंगना ने इंस्टाग्राम का सहारा लिया और बंगाल हिंसा के बारे में बात करते हुए रो पड़ीं.

मुंबई : बंगाल चुनाव में बीजेपी की हार और तृणमूल कांग्रेस (TMC) की जीत के बाद से कंगना रनौत (Kangana  Ranaut) लगातार विवादित बयानबाजी कर रही हैं. बंगाल की तुलना कश्मीर से करने और  ममता बनर्जी को खून की प्यासी ताड़का बोल देने के बाद अब भारत सरकार को राष्ट्रपति शासन लगाने की सलाह दे रहीं है. कंगना का ट्विटर अकाउंट सस्पेंड कर दिया गया है, तो अब कंगना ने इंस्टाग्राम अकाउंट का सहारा लेते हुए रो-रो कर अपना दर्द बयां किया हैं. कंगना रनौत ने इंस्टाग्राम पर अपना एक वीडियो शेयर किया है. कंगना ने भारत सरकार को मैसेज दिया है. इस वीडियो में कंगना रनौत रोते हुए नजर आ रहीं है. कंगना इस वीडियो में बोल रहीं हैं कि ‘दोस्तों हम सब देख रहे हैं कि बंगाल से लगातार डिस्टर्ब करने वाली खबरें आ रहीं हैं. लोगों के मर्डर हो रहे हैं,गैंगरेप हो रहे हैं. घरों को जलाया जा रहा है. कोई भी लिबरल कुछ नहीं कह रहा है. बीबीसी वर्ल्ड,टेलीग्राफ, टाइम कोई इंटरनेशनल पेपर इसको कवर नहीं कर रहा है’. उन्होंने आगे कहा, ‘मुझे समझ नहीं आ रहा है कि क्या ये इंडिया के खिलाफ कॉस्पिरेसी है. क्या करना चाहते हैं वो हमारे साथ. क्या हिंदू खून इतना सस्ता है? क्यों डर गए हैं देशद्रोहियों से इतना..देशद्रोही देश चलाएंगे क्या ? मुझे पता है इंटरनेशनल दबाव है,हम लोग बुरी तरह से फंसे हुए हैं. लेकिन इस वक्त पर जब प्रेसिडेंट रूल की जरूरत है… जवाहर लाल नेहरू में 12 बार प्रेसिडेंट रूल लगाया था, इंदिरा गांधी ने 50 बार लगाया था..मनमोहन सिंह ने 10-12 बार लगाया था..तो हम किससे डर रहे हैं..इस देश को क्या देशद्रोही चलाएंगे….मासूमों की हत्या होगी और हम सिर्फ धरना देंगे..मैं अपनी सरकार को कहना चाहूंगीं कि जल्द से जल्द कड़ा कदम लीजिए’.

कंगना रनौत का ट्विटर अकाउंट भी इसी तरह के पोस्ट करने की वजह से सस्पेंड कर दिया गया है. कंगना के फैंस उनके समर्थन में उतर आए हैं तो वहीं एक्ट्रेस ट्रोल भी हो रहीं हैं.



<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here