बदायूं में बिजली विभाग की बड़ी लापरवाही, किसानों पर टूटकर गिरी हाईटेंशन, 2 की मौत

0
72


हाइलाइट्स

बिजली लाइन का तार टूटने से दो किसानों की मौके पर मौत हो गई.
घटना पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुःख जताया है.

बदायूं. उत्तर प्रदेश के बदायूं में रविवार को बिजली विभाग की लापरवाही का एक बड़ा मामला सामने आया है. यहां पर लकड़ियों पर बांध कर 11 हजार वोल्ट की हाईटेंशन लाइन चलाई जा रही है. इस कारण यहां एक बड़ा हादसा हो गया. बिजली लाइन का तार टूटने से दो किसानों की मौके पर मौत हो गई. दोनों किसाना काम के बाद घर लौट रहे थे. तब ही अचानकर बिजली का तार टूटकर गिर गया और करंट से दोनों किसान मौत के मुंह में चले गए. इस हादसे में एक मासूम घायल भी हुआ है जिसका इलाज चल रहा है.

घटना की जानकारी होने पर मौके पर पहुंचे परिजनों ने बिजली विभाग के काम को लेकर काफी रोष जताया. उन्होंने बिजली विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाया है. नाराज परिजनों का कहना है कि वे शवों को तक तक नहीं उठाने देंगे जब तक इस मामले में कार्यवाही नहीं होगी.

उधर, इस घटना पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुःख जताया है. साथ ही दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हुए शोक संवेदना व्यक्त की है. बिजली विभाग को मृतकों के परिजनों को आर्थिक सहायता देने के निर्देश दिए गए हैं. साथ ही ऐसी घटनाओं पर रोक लग सके इसके लिए विस्तृत कार्ययोजना तैयार कर व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए भी निर्देश दिए गए हैं.

मासूम का चल रहा इलाज
जानकारी के अनुसार, आलापुर थाना क्षेत्र के ककराला कस्बे के रहने वाले कैसर अली 60 और शाकिर अली उम्र 55 सहित एक मासूम बच्चे के साथ अपने खेत पर गए हुए थे. खेत से लौटते समय अचानक 11 हजार वाट की बिजली की लाइन का तार टूटकर उनके ऊपर गिर गया. जिससे दोनों की मौके पर ही मौत हो गई. हादसे में एक मासूम भी घायल हो गया, जिसका इलाज सीएचसी ककराला में चल रहा है.

बिजली विभाग ने नहीं ली सुध
इस लापरवाही से नाराज कस्बे के लोगों ने मृतकों के शवों को उठाने नहीं दिया है. बिजली विभाग पर गंभीर आरोप लगाते हुए लोगों का कहना है कि पूरी लाइन में लकड़ी के द्वारा 11000 वाट की लाइन के तारों को रोका गया है. इसे लेकर बड़ा हादसा होने की आंशका पहले ही जताई गई थी और अधिकारियों को सूचित किया गया था. बिजली विभाग ने संज्ञान नहीं लिया. इतना ही नहीं तार रोकने के लिए लगाए जाने वाले लोहे के एंगल के रुपये भी किसानों से ही मांगे जा रहे थे.

Tags: Electricity Department, Farmer Death



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here