बीजेपी के मैनपुरी से संभावित प्रत्याशियों की लिस्ट में अपर्णा यादव का नाम नहीं, जानें वजह

0
16


हाइलाइट्स

मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव के लिए बीजेपी के संभावित प्रत्याशियों की लिस्ट में अपर्णा यादव का नाम नहीं
कार्यकर्ताओं के फीडबैक के मुताबिक बीजेपी ने संभावित उम्मीदवारों के नाम केंद्रीय नेतृत्व को भेजा
जानकारी के मुताबिक अपर्णा यादव खुद मैनपुर लोकसभा सीट से उपचुनाव नहीं लड़ना चाहती हैं

लखनऊ. मैनपुरी, रामपुर और खतौली उपचुनाव में प्रत्याशियों के नामों को लेकर भारतीय जनता पार्टी का शीर्ष नेतृत्व लगातार फीडबैक ले रहा है, इनमें सबसे चर्चित सीट मैनपुरी की है. मैनपुरी के सीट पर जहां समाजवादी पार्टी ने डिंपल यादव को प्रत्याशी बनाया है, वहीं बीजेपी इस सीट को जीतने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रही है. यही वजह है कि भारतीय जनता पार्टी के महामंत्री संगठन धर्मपाल ने खुद मैनपुरी पहुंचकर पार्टी पदाधिकारियों से फीडबैक लिया, इस फीडबैक में जो सबसे बड़ी बात सामने निकलकर आई, वह है अपर्णा यादव को प्रत्याशी बनाने की.

दरअसल, बीजेपी की जिला और क्षेत्रीय टीम ने अपर्णा यादव का नाम पैनल में नहीं दिया है. इसके पीछे जब प्रदेश संगठन से स्थानीय टीम की चर्चा हुई तो यह बात निकलकर सामने आई कि अपर्णा यादव जातीय गोलबंदी साधने में नाकाम होंगी. वहीं शाक्य सैनी और क्षत्रिय मतदाता को पाले में करना अपर्णा के लिए इतना आसान नहीं होगा. यादव वोट बैंक डिंपल के सामने अपर्णा यादव पर भरोसा ज्यादा नहीं करेगा. दरअसल, मुलायम सिंह यादव की सहानुभूति का वोट और यादव बिरादरी का फायदा समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी को मजबूती से मिलेगा.

अपर्णा भी चुनाव लड़ने के लिए तैयार नहीं
पार्टी सूत्रों की मानें तो अपर्णा यादव मैनपुरी से खुद चुनाव लड़ने के लिए तैयार नहीं है. इसको लेकर उन्होंने पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व और प्रदेश नेतृत्व को अवगत भी करा दिया है. हालांकि इस पर फैसला केंद्रीय नेतृत्व को लेना है.

प्रेम सिंह शाक्य और मंत्री जयवीर सिंह के नाम पर भी मंथनबीजेपी के क्षेत्रीय कमेटी ने जो पैनल में नाम दिए हैं, उनमें सबसे पहला नाम मैनपुरी से प्रेम सिंह शाक्य का है. दरअसल, 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रेम सिंह शाक्य मुलायम सिंह यादव से महज 94000 वोटों से हारे थे. यह तब हुआ था जब वर्ष 2019 में सपा और बसपा के बीच गठबंधन था. ऐसे में माना यह जा रहा है कि पार्टी प्रेम सिंह शाक्य पर एक बार फिर दांव लगा सकती हैं. वहीं दूसरी तरफ दूसरा नाम योगी सरकार में मंत्री ठाकुर जयवीर सिंह का है. दरअसल मैनपुरी सीट पर डेढ़ लाख ठाकुर वोट है, ऐसे में बीजेपी जयवीर सिंह के नाम पर भी विचार कर रही है. बीजेपी के जिला अध्यक्ष प्रदीप सिंह चौहान और शिवपाल यादव के करीबी रहे सपा से भाजपा में आए रघुराज शाक्य का भी नाम पैनल में है.

रामपुर, खतौली सीट पर इन नामों पर मंथन
वहीं रामपुर सीट की बात करें तो इसमें आकाश सक्सेना, अभय गुप्ता और तनवीर अहमद खान के नाम को लेकर मंथन किया जा रहा है. खतौली की सीट पर पूर्व विधायक विक्रम सैनी की पत्नी राजकुमारी सैनी और सुधीर सैनी, ओबीसी मोर्चा के क्षेत्रीय महामंत्री रूपेंद्र सैनी और क्षेत्रीय उपाध्यक्ष प्रदीप सैनी के नाम पर भी मंथन किया जा रहा है.

Tags: Mainpuri News, UP latest news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here