बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे 8 महीने पहले ही बनकर तैयार, 1132 करोड़ की हुई बचत, पीएम मोदी अगले हफ्ते करेंगे उद्घाटन

0
38


लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले हफ्ते 12 जुलाई को आगरा-बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करने वाले हैं. इसके साथ ही उत्तर प्रदेश को पांचवां एक्सप्रेसवे मिल जाएगा, जो कि बुंदेलखंड के दूरस्थ इलाकों को जोड़ने का काम करेगा. पीएम मोदी ने 29 फरवरी 2020 को इस एक्सप्रेसवे का शिलान्यास किया था. 296 किलोमीटर लंबा यह एक्सप्रेसवे महज 28 महीनों में ही बनकर तैयार हो गया, जबकि इसके लिए 36 महीनों का लक्ष्य तय किया गया था. कोरोना काल के दौरान लगी पाबंदियों के बावजूद यह प्रोजेक्ट तय समय से पहले ही पूरा हो गया.

इस एक्सप्रेसवे के निर्माण में योगी आदित्यनाथ सरकार ने करीब 1,132 करोड़ रुपये की बचत भी की है, जो कि कुल अनुमानित लागत का 12.72% है. अभी चार लेन में बने बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे को आगे चलकर छह लेन तक बढ़ाने की योजना है. यह एक्सप्रेसवे राज्य के सात जिलों को जोड़ता है, जिसमें 13 इंटरचेंज प्वाइंट होंगे.

इस नए एक्सप्रेसवे की एक और खासियत यह भी है कि यह आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे से इटावा के पास जुड़ेगा, जिससे दिल्ली-एनसीआर के साथ लखनऊवालों को भी बुंदेलखंड तक सीधा रूट मिल जाएगा.

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे राज्य में बनने वाले डिफेंस कॉरिडोर की सफलता के लिए भी बेहद अहम है. बांदा और जालौन जिले में इंडस्ट्रियल कॉरिडोर के लिए काम भी शुरू हो चुका है. वहीं दूसरी ओर चित्रकूट में यह एक्सप्रेस राष्ट्रीय राजमार्ग 35 पर खत्म हो रहा है, जो झांसी को प्रयागराज से जोड़ता है.

यूपी एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के सीईओ अश्विनी कुमार अवस्थी कहते हैं, ‘यह नया एक्सप्रेसवे सामाजिक और आर्थिक विकास के अलावा कृषि, पर्यटन और उद्योग के क्षेत्र में आय बढ़ाने के साथ-साथ बुंदेलखंड क्षेत्र के सर्वांगीण विकास में मदद करेगा. यह दिल्ली-एनएसआर के लिए इंडस्ट्रीयल कॉरिडोर के रूप में भी काम करेगा.’

इस नए एक्सप्रेसवे के पास झांसी और चित्रकूट में डिफेंस कॉरिडोर की दो इकाइयां बनाई जाएंगी. पिछले साल 19 नवंबर को पीएम मोदी ने झांसी में भारत डायनेमिक्स लिमिटेड (BDL) यूनिट की आधारशिला रखी थी, जिसमें पहले फेस के लिए 400 करोड़ रुपये का निवेश प्रस्तावित है.

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे यूपी का पांच एक्सप्रेसवे होगा. इससे पहले राज्य में नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे, ग्रेटर नोएडा को आगरा से जोड़ने वाला युमना एक्सप्रेसवे, फिर 302 किलोमीटर लंबा आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे और लखनऊ को गाजीपुर से जोड़ने वाला 341 किलोमीटर लंबा पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, जिसका पीएम मोदी ने पिछले साल उद्घाटन किया था. इसके साथ प्रयागराज से मेरठ के बीच 594 लंबे गंगा एक्सप्रेसवे पर भी काम तेज़ी चल रहा है.

Tags: Bundelkhand Expressway, Narendra modi, Yogi Adityanath Government



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here