बैकफुट पर आई मेरठ पुलिस, ठाकुर शब्द लिखा जूता बेचने वाले के ऊपर से जातिगत उन्माद भड़काने की धारा हटाई

0
45


मेरठ पुलिस ने ठाकुर शब्द लिखा जूता बेचने वाले के ऊपर से जातिगत उन्माद भड़काने की धारा हटा ली है.

बुलंदशहर (Bulandashahar) पुलिस ने ठाकुर शब्द लिखा जूता (Shoes) बेंचने वाले नासिर के ऊपर से धार्मिक उम्माद फैलाने की धारा हटा ली है. हालांकि नासिर के खिलाफ मारपीट का केस चलता रहेगा. सोशल मीडिया पर इस मामले में किरकिरी होने के बाद पुलिस ने ऐसा किया है.

बुलंदशहर. बुलंदशहर (Bulandashahar) के गुलावठी बाजार में ठाकुर शब्द लिखे जूते (Shoes) बेचने के मामले में दुकानदार को हिरासत में लेने के बाद पुलिस (Police) को काफी किरकिरी झेलनी पड़ रही है. इसीलिए पुलिस ने अपनी कार्रवाई पर सुधार किया है. पुलिस ने अब आरोपी नासिर के ऊपर से धार्मिक उन्माद भड़काने की धारा 153A हटा लिया है. साथ ही नासिर को पुलिस ने छोड़ दिया है.

एक दिन पहले ठाकुर शब्द लिखा जूता बेंचने पर आरोपी नासिर को पुलिस ने पूछताछ के नाम पर घंटों थाने में बैठाकर रखा था. इसके बाद जब मामला मीडिया में आया तो पुलिस मामले से पैर पीछे खींचती हुई दिख रही है. पुलिस ने नासिर पर लगी एक धारा कम कर ली है, लेकिन उसके खिलाफ मारपीट और गाली- गलौज का मुकदमा चलता रहेगा. इस मामले में गलावठी थाना प्रभारी सचिन मलिक ने बताया कि नासिर को मामले में कभी भी गिरफ्तार नहीं किया गया था बल्कि उसे पूछताछ के लिए बुलाया गया था. फिलहाल पुलिस की एक टीम दिल्ली गई  है, जहां से ये जूते लाये गये थे.

OMG: इस शहर की महिलाओं ने गाय के गोबर से बनाया खास प्रोडक्ट, सात राज्यों से आ रहे खरीदार, देखें Photos

बता दें कि बुलंदशहर के गलावठी बाजार में नासिर नाम का एक पटरी दुकानदार जूते बेच रहा था. इनमें से दो जोड़ी जूते ऐसे थे जिनके सोल पर ठाकुर शब्द लिखा हुआ था. विशाल चौहान नाम के बजरंग दल के एक कार्यकर्ता ने इसे देखकर पुलिस में मारपीट और जातिगत उन्माद फैलाने की तहरीर थाने में दे दी. इस पर गलावठी थाने की पुलिस ने न सिर्फ जूते सीज कर दिये बल्कि नासिर के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कर लिया. साथ ही दिल्ली के जिस जगह से जूते लाये गये थे, वहां जांच के लिए एक पुलिस टीम भी भेजी गई है.पुलिस की इतनी तत्पर कार्रवाई सोशल मीडिया में वायरल हो गयी और उसकी आलोचना शुरू हो गयी. सोशल मीडिया पर ये भी पूछा जा रहा है कि जब बगरंग दल के कार्यकर्ता ने नासिर से मारपीट की तो मुकदमा नासिर के ही खिलाफ क्यों दर्ज कर लिया गया. ट्विटर पर “ठाकुर” शब्द टॉप ट्रेण्ड कर रहा है. अब पुलिस ने सफाई देते हुए कहा है कि जातिगत उन्माद फैलाने की धारा हटा ली गयी है और नासिर को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया है.


<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here