भारतीय मुक्केबाज खेल गांव में ही कर रहे हैं अभ्यास, बताई खास वजह/Tokyo Olympics indian boxers training at games village as boxing venue far– News18 Hindi

0
22


टोक्यो. ओलंपिक मुक्केबाजी स्थल के काफी दूर होने की वजह से भारतीय मुक्केबाजों ने खेल गांव में ही उपलब्ध सुविधाओं में अभ्यास करने का फैसला किया है, ताकि थकान और कोविड-19 के जोखिम से बचा जा सके. खेलों की (Tokyo Olympic) मुक्केबाजी स्पर्धायें यहां सुमिडा वार्ड के रयोगोकू कोकुगिकान एरीना में होंगी, जो मुख्यत: एक सुमो कुश्ती स्थल है. यह एरीना टोक्यो बे में स्थित खेल गांव से लगभग 20 किमी दूर है.

भारतीय मुक्केबाजी दल के एक सूत्र ने कहा, ‘हमने खेल गांव में ही अभ्यास करने का फैसला किया है. हम सोमवार को रयोगोकू कोकुगिकान एरीना में गए थे, लेकिन यह बहुत दूर है. बल्कि हम ही नहीं बल्कि कई अन्य टीमों को ऐसा ही लगा और हम सभी खेल गांव में ही अभ्यास कर रहे हैं.’ सूत्र ने कहा, ‘यहां बहुत गर्मी है, इसलिये सिर्फ अभ्यास के लिए इतनी दूर यात्रा की करना ठीक नहीं लगा. साथ ही कोविड-19 का खतरा भी बना हुआ है.’

मुक्केबाजी के मुकाबले 24 जुलाई से शुरू होने हैं

सूत्र ने कहा, ‘खेल गांव की अभ्यास की सुविधाएं अच्छी हैं, इसमें कोई परेशानी नहीं है.’ देश के नौ मुक्केबाज इस बार ओलंपिक में हिस्सा ले रहे हैं. मुक्केबाजी की स्पर्धाएं 24 जुलाई से शुरू होंगी. हालांकि टोक्यो ओलंपिक गेम्स में टीम इवेंट के मुकाबले 21 जुलाई से शुरू हो चुके हैं. आधिकारिक उद्घाटन 23 जुलाई को होना है. दुनिया के 200 से अधिक देश के 11 हजार से अधिक एथलीट गेम्स में 339 गोल्ड मेडल के लिए उतर रहे हैं.

अब तक मिले हैं सिर्फ दो मेडल

ओलंपिक इतिहास की बात की जाए तो भारत के खिलाड़ी मुक्केबाजी में सिर्फ 2 मेडल जीत सके हैं. एक महिला और एक पुरुष वर्ग में. 2008 बीजिंग ओलंपिक में विजेंदर सिंह ने ब्रॉन्ज जीता था. यह भारत का मुक्केबाजी का पहला मेडल था. वहीं एमसी मैरीकॉम ने भी 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल पर कब्जा किया था. यानी अब तक भारतीय खिलाड़ी इस खेल में सिल्वर और गोल्ड दोनों नहीं जीत सके हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here