मथुरा-वृंदावन ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे की डीपीआर तैयार, 20 को लगेगी मुहर

0
23


नोएडा. दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) के शहरों से बांके बिहारी मंदिर (Banke Bihari Temple) तक पहुंचने के लिए हैरीटेज कॉरिडोर तैयार करने के प्लान पर काम चल रहा है. इस कॉरिडोर को मथुरा-वृंदावन (Mathura-Vrindavan) ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे नाम दिया गया है. कॉरिडोर की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार हो चुकी है. अब 20 अगस्त को यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) में होने वाली बोर्ड बैठक में डीपीआर को रखा जाएगा. बैठक में डीपीआर को स्वीकृति मिलते इसे शासन को भेज दिया जाएगा. गौरतलब रहे कॉरिडोर (Corrdoor) के किनारे-किनारे होटल-रेस्टोरेंट और दुकान भी बनेंगी. मंदिर से 500 मीटर पहले कॉरिडोर खत्म हो जाएगा. जानकारों की मानें तो ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण पर करीब 750 करोड़ रुपये खर्च होंगे.

यह है यमुना अथॉरिटी और ब्रज विकास परिषद का प्लान

जानकारों की मानें तो हाल ही में यमुना अथॉरिटी और ब्रज विकास परिषद की एक अहम बैठक हुई थी. बैठक के बाद इस योजना की प्रगति रिपोर्ट सीएम योगी आदित्यनाथ के सामने रखी गई है. यह योजना खासतौर पर अथॉरिटी की है. अथॉरिटी ने ही कोल्डवैल बैंकर्स रिचर्ड एलिस (सीबीआरई) से राया हेरीटेज सिटी की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार कराई है.

डीपीआर में पहले 16 किमी का कॉरिडोर बनाने की बात सामने आई थी. लेकिन अब सिर्फ 7 किमी का बन रहा है. हेरीटेज सिटी के तहत ही कॉरिडोर के किनारे से होटल-रेस्टोरेंट और दुकान बनाई जाएंगी. यमुना अथॉरिटी सभी का आवंटन करेगी. वहीं बांके बिहारी मंदिर से 500 मीटर पहले पार्किंग की सुविधा भी दी जाएगी. हेरीटेज सिटी में घूमने के लिए कॉरिडोर में पैदल या कार-बाइक का इस्तेमाल भी कर सकेंगे.

हेलीपोर्ट निर्माण के लिए आज नोएडा आएंगी देश की 18 कंपनियां, यह होगी बात

वियतनाम-मलेशिया की भी झलक दिखेगी नई राया सिटी में

ड्राफ्ट रिपोर्ट तैयार करने वाली अमेरिकी कंपनी सीबीआरई ने डीपीआर का प्रेजेंटेशन देते हुए बताया था कि नए शहर में धार्मिक पर्यटन के साथ-साथ ब्रज की संस्कृति को दिखाया जाए जिससे मथुरा-वृंदावन आने वाले लोग यहां पर आकर रुक सकें. ड्राफ्ट रिपोर्ट बनाते समय कंपनी ने वियतनाम और मलेशिया के शहरों का अध्ययन भी किया. इस नए शहर में हेरिटेज सिटी को 9350 हेक्टेयर में बसाया जाएगा तो पहले चरण में 731 हेक्टेयर में टूरिज्म जोन और 110 हेक्टेयर में रिवर फ्रंट विकसित किया जाएगा.

कार-बाइक से देखने को मिलेंगे गोकुल-नंदगांव और बरसाना

जल्द ही यमुना एक्सप्रेसवे के पास वृंदावन हेरिटेज कॉरिडोर बसने जा रहा है. यमुना अथॉरिटी हेरिटेज कॉरिडोर को बसाने का काम करेगी. जीप में बैठकर कॉरिडोर में बसे गोकुल-नंदगांव और बरसाना को देखने का मौका मिलेगा. तीनों गांव में राधा-कृष्ण की लीलाएं दिखाई जाएंगी. जीप से तीनों गांवों में दिखाई जाने वालीं लीलाएं देखने का भी मौका मिलेगा.

गांवों की परिक्रमा के लिए पाथ वे बनेगा. गांव में पानी के कुंड भी बनाए जाएंगे. गांव में ही ऐसा भागवत कथा वाचनालय बनाया जाएगा जहां 24 घंटे होगी भागवत कथा सुनाई देगी. इतना ही नहीं यमुना नदी के किनारे रिवर फ्रंट भी तैयार किया जाएगा. यमुना अथॉरिटी की मंशा है कि कम से कम एक रात पर्यटक मथुरा-वृंदावन में जरूर रुके.

Tags: Mathura news, Vrindavan, Yamuna Authority, Yamuna Expressway



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here