मां-बेटी ने डीएम ऑफिस के बाहर खुद पर डाला केरोसीन, पुलिसकर्मियों ने पकड़ कर बचाया

0
18


इटावा. इटावा में डीएम ऑफिस के बाहर उस समय हडंकप मच गया जब जमीन कब्जे से परेशान मां-बेटी ने केरोसिन डाल कर आत्मदाह का प्रयास किया. आत्मदाह के प्रयास की सूचना मिलने के बाद एसपी ग्रामीण सत्यपाल सिंह, एसडीएम राजेश कुमार सहित तमाम अधिकारी मौके पर पहुंच गए. इस दौरान उन्होंने पीड़ित महिला और उसकी बेटी की पूरी बात सुन कर कब्जेदारों के खिलाफ कार्यवाही शुरू करने का आदेश दिया. इटावा के एसपी ग्रामीण सत्यपाल सिंह ने आत्मदाह करने की कोशिश करने वाली महिला और उसकी बेटी से अपने ऑफिस में काफी देर तक पछूछाछ की और स्थानीय थाना पुलिस के अलावा प्रशासनिक अधिकारियो को त्वरित ढंग से इस बात के निर्देश दिये कि मामले में नियमानुसार कार्रवाई हो.

8 साल से सुनवाई नहीं
बुधवार को दोपहर में कचहरी परिसर में उस समय हड़कंप मच गया जब 8 साल से जमीनी विवाद में सुनवाई न होने पर थाना भरथना क्षेत्र के ग्राम नगला नगरू की रहने वाली मां-बेटी ने अपने शरीर पर मिट्टी का तेल डालकर आत्मदाह का प्रयास किया. जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर बैठे पुलिसकर्मियों ने ने उन्हें पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया. भरथना पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है. जानकारी के अनुसार ग्राम नगला नगरू में दंबग परिजनों ने ही सावित्री देवी की जमीन को जोत दिया है. उन्हें घर से बाहर निकाल दिया गया और आवास के लिए मकान मिलने पर परेशानियां खड़ी की जा रही हैं. सावित्री देवी अपनी पुत्री संगीता के साथ बुधवार को दोपहर में कचहरी पहुंची और जिलाधिकारी से मिलने की इच्छा जाहिर की. जिलाधिकारी श्रुति सिंह तब तक कार्यालय से जा चुकी थीं. उसने अचानक एक बोतल निकाली और मिट्टी का तेल अपने और बेटी संगीता देवी के ऊपर छिड़क लिया. संगीता माचिस की तीली निकालकर जलाने लगी. इस पर वहां मौजूद पुलिसजनों व लोगों ने उन्हें दौड़कर पकड़ लिया और माचिस व बोतल छीन ली. पुलिस के अधिकारियों को सूचना दी गई जिस पर भरथना पुलिस दोनों को थाने ले आयी और उनके गांव नगला नगरू पहुंची.

हाथ के हाथ कार्रवाई
यहां पर क्षेत्रीय लेखपाल व राजस्व टीम द्वारा जमीन की नापजोख शुरू की गई. जमीन कब्जे से परेशान चल रही सावित्री देवी का कहना है कि वह पिछले कई दिनों से न्याय को लेकर चक्कर काट रही थीं लेकिन अधिकारियों के यहां व थाने में उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही थी. उनकी जमीन पर कब्जा करने वाला रिश्तेदार है और उस पर भरथना के नेताओं का संरक्षण है. थाना प्रभारी कृष्ण लाल पटेल ने बताया कि सावित्री देवी की जमीन जिन लोगों ने जोती रखी है उन पर कठोर कार्रवाई करके जमीन वापस दिलाई जा रही है. क्षेत्रीय लेखपाल की ओर से नाप की गई है. उसके राशन कार्ड व सरकारी आवास योजना के फार्म भरवाकर उसकी समस्या का निस्तारण किया जाएगा. फिलहाल पीडित महिला और उसकी बेटी को भर्थना पुलिस थाने में रोक कर रखा गया है.

आपके शहर से (इटावा)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

Tags: Etawa news, UP news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here