मेरठ: कमिश्नर को औचक निरीक्षण में अनुपस्थित मिले अधिकांश अफसर और कर्मचारी, 4 माह से गैरहाजिर था क्लर्क

0
11


मेरठ. उत्तर प्रदेश में मेरठ मंडल के कमिश्रनर सुरेंद्र सिंह (Commissioner Surendra Singh) ने बुधवार को मेरठ विकास प्राधिकरण का औचक निरीक्षण किया तो हड़कंप मच गया. इस दौरान कई अधिकारी और कर्मचारी कार्यालय से गायब मिले. कुछ के तो दो और तीन दिनों से ही उपस्थिति रजिस्टर में साइन नहीं थे. यह देख कमिश्नर ने नाराजगी जाहिर की और विभागीय कार्रवाई के निर्देश जारी किए हैं.

कमिश्नर के निरीक्षण में मुख्य रूप से वित्त नियंत्रक अनीता सिंह, वित्त एवं लेखाधिकारी अभिषेक जैन, अवर अभियन्ता सर्वश्री राजबल सिसोदिया, नरेश कुमार सिसोदिया, पवन कुमार भारद्वाज अनुपस्थित पाये गये. नियोजन अनुभाग के अमित तोमर अवर अभियन्ता बीते 2 दिन से अनुपस्थित, अनुरक्षण अनुभाग में आउटसोर्सिंग स्टाफ मोनू, वित्त अनुभाग में विनोद कुमार शर्मा लेखाकार 03 दिन से अनुपस्थित, सम्पत्ति अनुभाग में रजनी गुप्ता, भू-अर्जन अनुभाग के मेट परमानन्द शर्मा, सचिव कार्यालय के निलम्बित मेट जयवीर सिंह एवं सुनील कुमार, विधि अनुभाग के मेट सुभाष त्यागी, प्रवर्तन ज़ोन-ए के मेट संजय कुमार, मुख्य नगर नियोजक कार्यालय के लिपिक जगदीश चन्द पन्त व मेट कृष्णदत्त शर्मा, अभिलेखागार मानचित्र अनुभाग के मेट सरताज सिंह, विद्युत अनुभाग के इलैक्ट्रीशियन लाल बहादुर शर्मा, मेट गया प्रसाद व सोनू, उद्यान अनुभाग के निरीक्षक भारत भूषण अनुपस्थित पाये गये.

चार माह से अनुपस्थित है विभागीय लिपिक
कमिश्नर ने अनुपस्थित मिले अधिकारी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई व वेतन कटौती करने के निर्देश दिए हैं. बताया गया कि महेश शर्मा, लिपिक 4 माह से अनुपस्थित हैं. इसके बाद उनके विरूद्ध विभागीय कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं. जो कर्मचारी लंबे समय से मेडिकल पर हैं, उनके मेडिकल का वेरिफिकेशन कराया जाने की बात कमिश्रनर ने कही.

प्राधिकरण की भूभि पर कब्जा कराने वाले होंगे निलंबित
प्राधिकरण में कार्मिकों की उपस्थिति मैनुअल रूप से दर्ज की जा रही है. बायोमैट्रिक अटेंडेंस की व्यवस्था अगले माह से सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए. अर्बन सीलिंग भूमि के प्रकरणों में भूमि पर कब्जा ना लेने पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए तहसीलदार विपिन कुमार मोरल का स्पष्टीकरण तलब किया गया. अर्बन सीलिंग कुल 36 प्रकरणों में उच्च न्यायालय में रिट याचिकाएं योजित हैं. इन वादों में प्रभावी पैरवी कर भूमि का कब्जा लिया जाए. मिलीभगत कर प्राधिकरण की भूमि पर अवैध कब्जा कराने वाले दोषी कार्मिक होंगे निलंबित.

लंबित मिली पत्रावलियां
लेखा अनुभाग के निरीक्षण में विभिन्न पत्रावली काफी समय से लंबित पाई गई. सेवानिवृत्त कर्मचारी शंभू प्रसाद, अनुचर एवं अजय कुमार वर्मा की पत्रावलियों को अनावश्यक रूप से काफी समय तक लंबित रहने के लिए उत्तरदायी अधिष्ठान लिपिक एके अवस्थी एवं सतेंद्र कुमार को चार्ज शीट देने के निर्देश दिए गए.

कई कर्मचारी ऐसे मिले जिनके पास नहीं रहता कोई काम
संपत्ति अनुभाग में कार्यरत लिपिक योगेंद्र कुमार के पटल पर 10 दिन तक कोई पत्रावली का कार्य न होने पर उनका स्पष्टीकरण प्राप्त किए जाने के निर्देश दिए गए. इसी प्रकार कई कर्मचारी ऐसे पाए गए, जिनके पटल पर अपेक्षाकृत बहुत कम कार्य हैं, जिसके संबंध में निर्देश दिए कि इन्हें समान रूप से कार्य आवंटित किया जाए.

आपके शहर से (मेरठ)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

Tags: Meerut commissioner, Meerut news, UP news, Yogi adityanath



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here