यूपी: कैराना में कभी नहीं हुआ हिंदुओं को पलायन! चुनावी माहौल में सपा का दावा- लोग तो…

0
149


(प्रज्ञा कौशिक की रिपोर्ट)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Aseembly Election) के बीच मुजफ्फरनगर जिले का कैराना (Kairana) कस्बा फिर सुर्खियों में है. यह वही कस्बा है, जो 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों (Muzaffarnagar Riots) के दौरान पहली बार चर्चा में आया था. फिर 2014 से 2016 के बीच लगातार यहां से खबरें आती रहीं कि कई हिंदू परिवार मुस्लिमों की प्रताड़ना से तंग आकर कैराना (Exodus) से पलायन कर रहे हैं. हालांकि अब यहां चुनावी माहौल में यह प्रचारित किया जा रहा है कि यहां से कभी पलायन हुआ ही नहीं. जो लोग कैराना (Kairana) छोड़कर गए भी, वे अपने काम और कारोबारी वजहों से गए थे और अब लौट आए हैं.

दरअसल, अभी 22 जनवरी को भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) कैराना (Kairana) के दौरे पर थे. उन्होंने वहीं से अपने चुनाव प्रचार अभियान (Election Campaign) की शुरुआत की. इस दौरान उन घरों में खास तौर पर सघन जनसंपर्क किया, जो कैराना (Kairana) छोड़कर जाने के बाद वापस लौटे हैं. इस तरह प्रतीकात्मक तौर पर भाजपा (BJP) ने उत्तर प्रदेश के मतदाताओं को यह संदेश देने की कोशिश की कि राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Adityanath Govt) के दौरान सांप्रदायिक तनाव (Communal Tension) बिल्कुल नहीं है. जबकि पहले ऐसा था कि कई गांव-कस्बे खाली हो गए थे.

अमित शाह (Amit Shah) ने जनसंपर्क अभियान के बाद तस्वीरों के साथ ट्वीट भी किया था. इसमें लिखा था, ‘कभी पलायन के डर से सहमी इन आंखों में आज सुरक्षा का भाव और आत्मसम्मान का गौरव देखकर मन को बहुत खुशी हुई.’ यहीं, इस बाबत एक और चीज ध्यान रखने की है कि योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath Govt) बीते कुछ समय में कई बार उत्तर प्रदेश के इस चुनाव (UP Election) को 80 बनाम 20 की संज्ञा दे चुके हैं. इसमें 80 से उनका तात्पर्य हिंदू समुदाय से रहा है.

जाहिर तौर पर, इन बयानों और गतिविधियों पर जवाबी प्रतिक्रिया आनी ही थी. और यह आई भी. समाजवादी पार्टी (SP) की ओर से सबसे पहले, जो राज्य में भाजपा के साथ मुख्य मुकाबले में दिख रही है. पार्टी के मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) के एक नेता गुलाम मोहम्मद News18 से बातचीत के दौरान कहते हैं, ‘कैराना से कभी पलायन हुआ ही नहीं. लोग अपने काम-धंधे के लिए बाहर गए थे, जो वक्त के साथ लौट भी आए. भाजपा बेवजह का भी मुद्दा बना रही है. इससे कुछ नहीं होगा.’

पहले चरण में ही है मतदान, भाई के मुकाबले में बहन खड़ी है

बताते चलें कि कैराना (Kairana) में उत्तर प्रदेश चुनाव (UP Election) के पहले चरण में 10 फरवरी को ही मतदान है. यहां से भाजपा (BJP) ने मृगांका सिंह (Mriganka Singh) को टिकट दिया है. वहीं सपा ने 2017 में यह सीट जीतने वाले नाहिद हसन (Nahid Hasan) को फिर उम्मीदवार बनाया है. लेकिन चुनावी संघर्ष को रोचक बनाया है इकरा चौधरी (Iqra Chowdhary) ने, जो नाहिद हसन की बहन हैं. उन्होंने इस सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ने के लिए पर्चा भरा है.

Tags: Amit Shah In UP, BJP, Hindi news, Kairana, UP Assembly Elections 2022



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here