यूपी में दल‍ित छात्रा को लेकर फरार हो गई श‍िक्ष‍िका, पढ़ें क्‍या है इसके पीछे की पूरी कहानी

0
16


हाइलाइट्स

वायरल वीडियो के आधार पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जांच टीम का गठन कर दिया है.

उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले से खबर है जहां गुरु शिष्य परंपरा को तार-तार करने का आरोप एक शिक्षिक पर लगा है. प्राथमिक विधालय की एक शिक्षिका पर दलित छात्रा को स्कूल से भगाने और जातिसूचक शब्द कहकर न पढ़ाने का आरोप छात्रा और उसके परिजनों द्वारा लगया गया है. गोंडा जिले में बेसिक शिक्षा विभाग के स्लोगन को ही शिक्षा विभाग ने दरकिनार किया है और सब पढ़े सब बढ़े की अवधारणा को कलंकित किया है.

दरअसल, जिले के कर्नलगंज ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय टेंगनहा में तैनात शिक्षिका पूजा सिंह पर एक दलित बच्ची को स्कूल से भगाने का आरोप लगा है. एक दलित वर्ग की छात्रा को शिक्षिका ने पढ़ाने से इनकार कर दिया. सोशल मीडिया पर एक बच्ची का बयान वायरल हो रहा है, जिसको लेकर शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा हुआ है. इस वायरल वीडियो में बच्ची ने अपने टीचर के ऊपर आरोप लगाया है कि उनको स्कूल से भगा दिया जा रहा है और बताया जाता है कि आप दलित जाति की हो इसीलिए हम आपको नहीं पढ़ाएंगे.

फिलहाल वायरल वीडियो के आधार पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जांच टीम का गठन कर दिया है. वायरल वीडियो और जांच टीम के बाद पूरी सत्यता सामने आएगी. वहीं बच्ची के पिता ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को लिखित शिकायत दी है कि उसकी बेटी को स्कूल में तैनात ने पढ़ाने से इनकार कर दिया. वहीं जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अखिलेश प्रताप सिंह ने कहा है कि पूरे प्रकरण की जांच की जाएगी. जांच में सत्यता मिलने पर निश्चित कार्रवाई की जाएगी. वहीं जब इस बारे में पूजा सिंह से बात की गई तो उन्होंने अपने ऊपर लगाए गए सभी आरोपों को निराधार बताया है और उन्होंने कहा की 6 वर्षो से वह अपना कर्तव्य निभा रही हैं.

फिलहाल सच्चाई क्या है? यह तो जांच के बाद ही सामने आएगा. वहीं जिलाधिकारी उज्ज्वल कुमार ने बताया की शिक्षक का दायित्व उसके हर शिष्य को ज्ञान देने की है फिर भी अगर आरोप लगा है तो जांच कराकर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी.

Tags: Dalit, Gonda news, UP news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here