रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए दुकानों पर लंबी कतार, कहीं कालाबाज़ारी की तैयारी तो नहीं!

0
170


जबलपुर में इंजेक्शन के लिए दुकान पर लगी कतार

Jabalpur. जिले के स्वास्थ्य अधिकारी का कहना है आने वाले एक-दो दिन में इंजेक्शंस की एक बड़ी खेप शहर पहुंचने वाली है. तय मानकों के मुताबिक ही इंजेक्शंस सबको दिये जाएंगे.

जबलपुर. कोरोना (Corona) मरीज़ों के इलाज के लिए महत्वपूर्ण रेमडेसिविर इंजेक्शंस के लिए कई जगह मारामारी मच गयी है. जबलपुर में अस्पतालों में इसकी किल्लत बतायी जा रही है, वहीं स्टॉकिस्ट कह रहे हैं इंजेक्शन की कोई कमी नहीं है. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या जानबूझकर इंजेक्शन की किल्लत बनाई जा रही है.

950 से लेकर 5400 रुपये कीमत 
कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में बेहिसाब वृद्धि ने फिर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं और प्रशासन की तैयारियों की पोल खोल कर रख दी है. कहने को जिलेभर में तमाम निजी और सरकारी अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन पर्याप्त संख्या में होने का दावा किया जा रहा है. लेकिन इलाज में इस्तेमाल होने वाले रेमेडिसिविर इंजेक्शंस के लिए जानबूझकर ऐसा माहौल बनाया जा रहा है जिससे कालाबाजारी फल फूल सके.

निजी अस्पताल रेमडेसिविर इंजेक्शन की किल्लत की बात कह रहे हैं. वहीं सरकारी अस्पतालों में इसकी कोई भी उपलब्धता नहीं है. ले देकर मरीज के परिवार को दवा बाजार के चक्कर काटने पड़ रहे हैं. जिससे वहां सुबह शाम लंबी-लंबी कतारें लगी हुई हैं. दवा व्यवसायियों का कहना है फिलहाल रेमडेसिविर इंजेक्शन की कोई कमी नहीं है. अलग-अलग कंपनियों के 950 रुपये एमआरपी से लेकर 5400 रुपये एमआरपी तक के इंजेक्शन उनके पास उपलब्ध हैं. किसी भी तरह से कोई कालाबाजारी नहीं की जा रही है.

रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए दुकानों पर लंबी कतार, कहीं कालाबाज़ारी की तैयारी तो नहीं!

दुकानों पर लंबी कतार
कोरोना के रोजाना रिकॉर्ड मरीज सामने आ रहे हैं. रेमडेसिविर की उपलब्धता बढ़ाने की बात प्रशासन कर रहा है. जिले के स्वास्थ्य अधिकारी का कहना है आने वाले एक-दो दिन में इंजेक्शंस की एक बड़ी खेप शहर पहुंचने वाली है. तय मानकों के मुताबिक ही इंजेक्शंस देने का प्रावधान किया गया है. हालांकि दवा बाजार का हाल ये है कि वहां लंबी-लंबी कतार लगी हुई हैं. इससे स्पष्ट हुआ कि फिलहाल इंजेक्शंस की उपलब्धता सिर्फ दवा बाजारों में ही है. निजी अस्पताल चाहें तो इसका स्टॉक मेंटेन रख सकते हैं.



<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here