लंबा हुआ राजनीतिक नियुक्तियों का इंतजार, पुरानी सूचियां हुईं रद्द, नये सिरे से बनेंगी, यह है वजह

0
28


गत अगस्त में प्रदेश प्रभारी के पद से अविनाश पांडे को हटा दिया गया था. उसके बाद अजय माकन को कमान दी गई थी.

राजनीतिक नियुक्तियों (Political appointments) का इंतजार कर रहे कांग्रेस के नेताओं की उम्मीदों को बड़ा झटका लगा है. पार्टी में इसके लिये फिर से नये सिरे से सूचियां बनाई जायेंगी, क्योंकि पुरानी सभी सूचियों को रद्द (Canceled) कर दिया गया है.

जयपुर. कांग्रेस में राजनीतिक नियुक्तियों (Political appointments) के लिए अविनाश पांडे के प्रदेश प्रभारी रहते हुए बनाई गई सूचियां रद्द (Canceled) कर दी गई हैं. राजनीतिक नियुक्तियों के लिए अब कांग्रेस (Congress) पार्टी में पूरी नए सिरे से कवायद होगी. राजनीतिक नियुक्तियों देने के लिये कार्यकर्ताओं की जिला और ब्लॉकवार नई सूचियां बनाई जाएंगी. इससे अब राजनीतिक नियुक्तियों में थोड़ा और वक्त लगना तय है.

कांग्रेस के मौजूदा प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने राजनीतिक नियुक्तियों के लिए कार्यकर्ताओं की नए सिरे से सूची बनाने के निर्देश दिए हैं. जिला और ब्लॉक स्तर पर 30 हजार से ज्यादा राजनीतिक नियुक्तियां होनी हैं. अजय माकन का तर्क है कि जब पिछली बार सूचियां बनी थीं उसके बाद प्रदेश कई जिलों में अब पंचायतीराज और शहरी निकायों के चुनाव हो चुके हैं. इसलिए नए सिरे से पूरी कवायद करनी होगी. पुरानी सूचियों की जगह नई सूचियां बनाई जाएंगी.

नए पार्टी पदाधिकारियों की भी राय अहम होंगी
राजनीतिक नियुक्तियों में कांग्रेस के नए पार्टी पदाधिकारियों की भी राय अहम होंगी. स्थानीय विधायक के साथ पार्टी के उपाध्यक्ष, महासचिव और सचिव भी नाम तय करने में अहम भूमिका निभाएंगे. पार्टी पदाधिकारियों की राजनीतिक नियुक्तियों में चलेगी. अविनाश पांडे के प्रदेश प्रभारी रहते पिछले साल मार्च अप्रैल में जिला और ब्लॉक स्तरीय राजनीतिक नियुक्तियों के लिए सभी विधायकों और पार्टी पदाधिकारियों से सूचियां तैयार करवाई गई थी. जिला स्तरीय राजनीतिक नियुक्तियों के लिए सरकार और संगठन के स्तर पर होमवर्क भी पूरा कर लिया गया था. लेकिन इस बीच कोविड आ गया और फिर सियासी संकट के कारण सब धरा रह गया.कांग्रेस नेताओं का इंतजार और लंबा हो गया है

अगस्त में प्रदेश प्रभारी के पद से अविनाश पांडे को हटा दिया गया था. इन सब कारणों के चलते पुरानी कवायद शून्य हो गई. अब राजनीतिक नियुक्तियों के लिए सारी कवायद नए सिरे से होगी. यही कारण है कि सियासी नियुक्तियों के इंतजार में बैठे कांग्रेस नेताओं का इंतजार और लंबा हो गया है.


<!–

–>

<!–

–>


! function(f, b, e, v, n, t, s) {
if (f.fbq) return;
n = f.fbq = function() {
n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)
};
if (!f._fbq) f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s)
}(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘482038382136514’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here