वाराणसी: बच्चों की चिंता छोड़ अब आराम से ड्यूटी कर पाएंगी महिला हेल्थ वर्कर्स, BHU अस्पताल में शुरू हुआ शिशु सदन 

0
31


रिपोर्ट-अभिषेक जायसवाल

वाराणसी: बीएचयू यानी बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी की महिला स्वास्थ्यकर्मियों को विश्वविद्यालय ने खास तोहफा दिया है. अस्पताल में काम करने वाली डॉक्टर, नर्स और पैरामेडिकल स्टाफ के बच्चे अब ट्रामा सेंटर में बने शिशु सदन में आराम से घर जैसे माहौल में खेल सकेंगे. महिला स्वास्थ्य कर्मी अस्पताल में ड्यूटी के वक्त उन्हें अपने साथ यहां लाएंगी और शिशु सदन में उनकी देखभाल की जाएगी. इस खास भवन में इन बच्चों को अपनों जैसा प्यार और दुलार मिलेगा. 1 साल से लेकर 5 साल तक के बच्चे यहां रह सकेंगे. इस भवन में बच्चों के लिए झूले, खिलौने के साथ इंडोर गेम और स्टडी की भी व्यवस्था है. ढाई साल से अधिक उम्र के बच्चों को यहां प्ले स्कूल की शिक्षा भी मिलेगी. इसके अलावा, इस भवन में बच्चों के दूध के साथ अल्पाहार की भी व्यवस्था होगी.

महिलाओं को देख-रेख की जिम्मेदारी
ये शिशु भवन पूरी तरह से वातानुकूलित है और बच्चों के देख-रेख के लिए महिलाओं को जिम्मेदारी भी दी गई है. सर सुंदरलाल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. के. के गुप्ता ने बताया कि इस शिशु सदन में ट्रामा सेंटर के साथ ही सर सुंदरलाल अस्पताल और आयुर्वेद संकाय के स्वास्थ्यकर्मियों के बच्चे रह सकते हैं.

सेंटर में घर जैसा मिलेगा माहौल
ट्रामा सेंटर के डिप्टी मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉक्टर यशपाल सिंह ने बताया कि इस व्यवस्था से जिन स्वास्थ्यकर्मियों के बच्चे छोटे हैं, वो महिला कर्मचारी यहां आराम से काम कर पाएगी. अभी तक जब वो बच्चों को घर पर छोड़ कर आती थीं तो उन्हें उनके देखरेख की चिंता सताती थी. लेकिन इस केंद्र में उन बच्चों के लिए सारी सुविधाएं हैं, जो उन्हें घर जैसा माहौल देंगी. बता दें कि बीएचयू में लगभग 400 से ज्यादा महिला डॉक्टर, नर्स और पैरामेडिकल स्टाफ हैं, जिन्हें सीधे तौर पर इस शिशु भवन का लाभ मिलेगा.

Tags: BHU, Uttar pradesh news, Varanasi news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here