सन्नी देओल की ‘दहाड़’ से घबरा रहे हैं गुलदार, मुसीबत में किसानों के इस आइडिया ने किया काम

0
25


हाइलाइट्स

बिजनौर के चंदक व छाछरी मोड़ सहित कई इलाकों में गुलदार घुस गए हैं.
स्थानीय लोग खेतों में जाते वक्त तेज आवाज वाले डॉयलॉग सुनते हुए जा रहे हैं.
आशंका जताई जा रही है कि करीब 150 गुलदार इलाके में घुस चुके हैं.

बिजनौर. उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के जंगलों में इन दिनों सनी देओल के डॉयलॉग खूब सुने जा रहे हैं और इसकी वजह सुनकर आप हैरान हो सकते हैं. दरअसल, बिजनौर के बढ़ापुर, नगीना, चांदपुर और बिजनौर तहसील में लगातार खेतों में गुलदार देखे जा रहे हैं. अनुमान जताया जा रहा है कि करीब 150 गुलदार इन दिनों घूम रहे हैं. खेतों में गुलदारों के हमलों से बचने के लिए किसानों ने एक नई युक्ति निकाली है. जिसे कुछ हद तक सफल भी बताया जा रहा है. चंदक, छाछरीमोड़ आदि क्षेत्रों में जंगल जाने वाले कुछ गांव के लोग मोबाइल में फिल्म चलाकर खेतों में घूम रहे हैं ताकि गुलदार को लगे कि एक से अधिक लोग चल रहे हैं.

ज्यादातर ग्रामीण तेज आवाज वाली सनी देओल की फिल्में इस तरकीब के लिए सटीक लग रही हैं. बीते शुक्रवार को बिजनौर के छाछरीमोड़ क्षेत्र में एक मृत गुलदार मिला, जिससे इलाके में गुलदार के होने की पुष्टि हो गई. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक करीब एक सप्ताह पहले रावली क्षेत्र में किसान पर गुलदार ने हमला कर दिया था. इसके बाद वन विभाग ने ड्रोन की सहायता से खेतों की मैपिंग शुरू कर दी. वहीं गांव के लोगों ने गुलदार के हमले से बचने के लिए मोबाइल की मदद लेनी शुरू कर दी.

खासतौर पर शाम के वक्त खेतों में जाते हुए ग्रामीण मोबाइल की फ्लैश टार्च ऑन कर तेज आवाज में डॉयलॉग वाली फिल्म चला रहे हैं. वहीं वन अधिकारी गांव के लोगों को समूह में खेतों पर जाने की सलाह दे रहे हैं. विशेषज्ञों का मानना है कि रात के वक्त सबसे ज्यादा खतरनाक यदि कोई वन्य जीव होता है तो वह गुलदार ही है. यह कहीं से हमला कर सकता है और पेड़ पर भी चढ़ने में माहिर है. जहां गुलदार की संभावना हो वहां गांव के लोगों को ग्रुप में जाना चाहिए.

Tags: Bijnor news, Uttar pradesh latest news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here