सावधान! नोएडा की इस सोसाइटी में बिल्‍डर ने एक फ्लैट कई लोगों को बेचा, जानें पूरा मामला

0
48


रिपोर्ट- आदित्य कुमार

नोएडा. अपनी खून पसीने की कमाई से आप घर खरीदने की योजना बना रहे हैं, तो उससे पहले ये खबर पढ़ना आपके लिए जरूरी है. कहीं ऐसा न हो कि आपको बिना बताए आपके घर को कई अन्य लोगों को भी न बेच दिया जाए. दरअसल नोएडा एक्सटेंशन में यही खेल काफी धड़ल्ले से खेला जा रहा है. घर किसी और का है, बेच कोई और रहा है और खरीददार कोई और है. ऐसे एक या दो नहीं बल्कि कई मामले सामने आए हैं.

ग्रेटर नोएडा वेस्ट की एलिगेंट विले सोसाइटी में रहने वाले अजय सिंह बताते हैं कि हमने बिल्डर से 35 लाख में अपना घर खरीदा था. हमें 5 साल यहां रहते हो गया, लेकिन एक दिन अंजान व्यक्ति हमारे घर आया और हमारे घर को अपना घर बताने लगा. हमसे हमारा ही घर खाली करने की चेतावनी देने लगा. इस बात की शिकायत हमने बिल्डर, पुलिस और रेरा में भी की है, लेकिन पांच साल से सिर्फ केस लड़ रहे हैं, कार्रवाई कोई नहीं कर रहा है. वहीं, हेमंत कुमार सिंह बताते हैं कि मेरे घर पर कुछ लोग आए और कहने लगे कि बिजली चेक करने आए हैं और वो चले गए. कुछ दिनों के बाद वो लोग फिर से आए, इस बार अपने साथ घर और लोन के पेपर लेकर आए. मुझे दिखाने लगे कि ये घर मेरा है और हमें घर से बाहर जाने की बात कहने लगे.

एक घर पर बैंक ने कैसे जारी किए 3 होम लोन?
एक और निवासी जीसी नूरूला का कहना है कि जब मैं रिटायर हुआ तो घर खरीदा. घर खरीदने के लिए रियारमेंट की रकम के साथ-साथ मैंने घर के ही एड्रेस पर बैंक से भी लोन लिया था, लेकिन बाद में पता चला कि ये घर तीन और लोगों को बेचा जा चुका है और वो भी लोन लेकर. ऐसे में सवाल ये उठता है कि आखिर बैंक ने एक ही घर पर तीन होम लोन कैसे जारी कर दिए. मतलब साफ है कि कहीं न कहीं बैंकिंग में गड़बड़ी है. अब क्या पता केस का फैसला किसके पक्ष में आएगा?

बैंक को सिर्फ प्रोसेसिंग फीस से मतलब
नियम के अनुसार एक घर पर एक बार में एक ही होम लोन लिया जा सकता है, लेकिन यहां पर इस नियम को तोड़ा गया. एक ही घर पर तीन लोन तक दिए गए. कुंदन प्रियदर्शी पेशे से बैंकर हैं और वो बताते हैं कि भारतीय बैंक जब भी कोई लोन देता है तो प्रोसेसिंग फीस हमसे लेता है, ये शुल्क लिया ही जाता है. इस तरह के फ्रॉड की जांच के लिए, लेकिन बैंक ऐसा करते ही नहीं है. दुख की बात ये है कि बैंक को इस तरह से नियम तोड़ने पर कोई कानून भी नहीं है.

क्या करें अगर इस तरह की ठगी हो तो
प्रियांक बताते हैं कि मेरे भी घर की यही हालत थी, ऐसे में तुरंत पुलिस, बैंक और रेरा (Real Estate Regulatory Authority) को शिकायत करनी चाहिए. रेरा इस तरह के मामले को अच्छे से देखता है.

Tags: Noida Authority, Noida news, UP RERA



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here