साहिबाबाद मंडी के बाद एक और सरकारी विभाग पर प्रदूषण फैलाने के लिए लगा जुर्माना, ये है विभाग

0
7


गाजियाबाद. जिले में प्रदूषण कम करने के लिए एक और सरकारी विभाग पर जुर्माना लगाया गया है. पूर्व में साहिबाबाद मंडी पर प्रदूषण फैलाने पर जुर्माना लगाया जा चुका है. क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इस सरकारी विभाग पर 13.5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. बोर्ड ने माना कि विभाग की वजह से इलाके में धूल उड़ रही है, जो हवा में प्रदूषण बढ़ा रहा है.

गाजियाबाद के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी उत्सव शर्मा के अनुसार टीम ने आवास विकास परिषद के सिद्धार्थ विहार का निरीक्षण किया, वहां सड़क टूटी हुई थीं, गड्ढे हो गए हैं. हवा में जहर बढ़ाने की बड़ी वजह मानी गयी है. इस वजह से प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने 13.5 लाख रुपये का जुर्माना परिषद पर लगा दिया. हालांकि इसके बाद परिषद ने सड़क को दोनों ओर से बंद करा दिया है, ताकि गड्ढों से धूल न उड़े. साथ ही, सड़क निर्माण का प्रस्ताव बनाकर शासन के पास भेज दिया. परिषद ने निर्माण के लिए दो करोड़ रुपये का बजट मांगा है.

परिषद ने आसपास की कई सोसायटी में बाहर आवास विकास ने रास्ता बंद करने के बैनर लगा दिए हैं. यह सड़क तब तक बंद रहेगी, जब तक इसका निर्माण कार्य पूरा नहीं हो जाता. ऐसे में लोगों को दूसरे रास्‍ते से होते हुए नोएडा सेक्टर-62 जाना पड़ रहा है.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

उत्तर प्रदेश
दिल्ली-एनसीआर
उत्तर प्रदेश
दिल्ली-एनसीआर

वसुंधरा की तरफ से एनएच पर जाने के लिए दो रास्ते हैं. इसमें एक रास्ता सीआईएसएफ रोड का है. इस पर यातायात का भारी दबाव रहता है. दूसरा रास्ता हिंडन बैराज को पार कर न्यू लिंक रोड वाली रोड का है.  यह सड़क टूटी हुई है, जिससे धूल उड़ रही है.अब आवास विकास परिषद सेक्टर सात स्थित गंगा, यमुना, हिंडन अपार्टमेंट से सीधे सड़क सेक्टर आठ होते हुए प्रतीक के सामने से सर्विस रोड तक बनवाएगी. इसकी लंबाई करीब डेढ़ किलोमीटर है और चौड़ाई 50 मीटर है.

Tags: Air pollution, Ghaziabad News



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here