सोंधी खुशबू से महक रहा वेस्ट यूपी का कोन-कोना, अब गुड़ से बनेगी मिठाई, कैंडी और चॉकलेट, छात्रा ने बनाई हाईटेक मशीन

0
15


हाइलाइट्स

अमेरिका, लंदन तक एक्सपोर्ट होने वाला गुड़ वेस्ट यूपी में बनता है.
वेस्ट यूपी में जाने पर गुड़ की सोंधी ख़ुशबू आपका मनमोह लेगी.
छात्रा ने अत्याधुनिक गुड़ मिक्सर मशीन का आविष्कार किया है.

मेरठ. गन्ना को वेस्ट यूपी की धड़कन माना जाता है. गन्ना को लोग यहां की लाइफलाइन कहते हैं. गन्ने के सहारे ही यहां के किसानों की ज़िन्दगी चलती है. किसान गन्ना चीनी मिलों को बेचते हैं तो उन्हें पैसे मिलते हैं, जिससे किसानों के घर का खर्चा चलता है. गन्ना बेल्ट का गुड़ विश्व विख्यात है. अमेरिका, लंदन तक एक्सपोर्ट होने वाला गुड़ वेस्ट यूपी में कैसे बनता है, अगर आप यह देख लेंगे तो यहां खींचे चले आएंगे. दरअसल इन दिनों आप वेस्ट यूपी के किसी कोने में चले जाइए गुड़ की सोंधी ख़ुशबू आपका मनमोह लेगी.

गन्ने गुड़ और मिठास के लिए जाने जाने वाले वेस्ट यूपी में आजकल कोल्हुओं में गन्ने की पेराई तो हो ही रही है. गुड़ भी बनाया जा रहा है. एशिया की सबसे बड़ी मंडी के तौर पर अपनी पहचान बना चुके वेस्ट यूपी के गुड़ को आप बनते देख लेंगे. तो वाह-वाह कह उठेंगे.  न्यूज़ 18 की टीम आज जब एक कोल्हू पर पहुंची तो सोंधी सोंधी गुड़ की ख़ुशबू ने हमें भी अपनी ओर खींच लिया. गुड़ बनाने वाले कारीगर ख़ुद को सौभाग्यशाली समझते हैं कि वो ऐसे कार्य में जुटे हुए हैं जिसकी चर्चा देश से लेकर विदेश तक है.

छात्रा ने बनाई हाईटेक मशीन  

वहीं गुड़ की उपलब्धता और उपयोगिता को देखते हुए मेरठ के इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र छात्राओं ने ऐसी हाईटेक मशीन तैयार की है. जो गुड़ से सीधा मिठाई बनाएगी. यही नहीं मशीन के ज़रिए गुड़ से कुछ ही देर में कैंडी बनकर तैयार हो जाएगी. मेरठ के सर छोटूराम इंजीनियरिंग कॉलेज की छात्रा ने अत्याधुनिक गुड़ मिक्सर मशीन का आविष्कार किया है. इस इनोवेशन के लिए मेरठ के चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय की वीसी ने उन्हें सम्मानित भी किया है.

जानें गुड़ से कैसे बनेगी मिठाई और कैंडी 

छात्रा का दावा है कि इस मशीन के ज़रिए गुड़ को बस मिक्सचर में डालना होगा फिर चाहे काजू पिश्ता वाली मिठाई बनाइए चाहे कैंडी. छात्रा विनीता का कहना है कि क्योंकि वेस्ट यूपी गन्ने के लिए विख्यात है. यहां का गुड़ सात समंदर भी जाता है. ऐसे में अगर किसान इस मशीन का प्रयोग करेंगे तो यकीनन उन्हें लाभ होगा. वाकई में ग्रामीण गुड़ सर्दियों की दवा है. लोगों का यह भी मानना है कि गुड़ खाने से शरीर स्वस्थ रहता है. बीमारियों से बचाव होता है.इसलिए सर्दियों में आप भी गुड़ खाइए और गुड गुड फील कीजिए.

Tags: Meerut news, Sugarcane Farmers, UP news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here