हरियाणा में Bird Flu या फिर RD से मर रही हैं मुर्गियां! एग ट्रेडर्स एसोसिएशन का आया यह बयान

0
30


मुर्गियों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं.

ये मुर्गियां बर्ड फ्लू (Bird Flu) से मर रहे हैं या कोई और वजह है, यह लैब की जांच रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल सकेगा. जांच के लिए मुर्गियों का सैंपल जालंधर और भोपाल लैब भेजे गए हैं. हालांकि, कुछ पोल्ट्री फार्म मालिकों का मानना है कि मुर्गियों को आरडी हो गई है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 5, 2021, 10:32 PM IST

नई दिल्ली. अभी तक राजस्थान (Rajasthan), मध्य प्रदेश और गुजरात समेत कुछ दूसरे प्रदेशों से पक्षियों के मरने की खबर आ रही थी. हालांकि यह पक्षी बर्ड फ्लू से मर रही हैं या कोई और वजह, यह लैब की जांच रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा. लेकिन हरियाणा (Haryana) के बरवाला (Barwala) में मुर्गियों के मरने की भी खबर आई है. यहां रोज़ाना सैंकड़ों मुर्गियां मर रही हैं. हालांकि, पंचकूला पशुपालन विभाग ने इन मुर्गियों के सैंपल जालंधर और भोपाल लैब में भेजे हैं. ऐसे में जब तक टेस्ट रिपोर्ट नहीं आ जाती यह कहना मुश्किल है कि मुर्गियों की मौत के पीछे बर्ड फ्लू (Bird Flu) जैसा घातक वायरस है या फिर कुछ और?

वहीं दूसरी ओर बरवाला एग ट्रेडर्स ऐसोसिएशन के वाइस प्रेसीडेंट मोहम्मद अफज़ाल ने न्यूज18 हिंदी को बताया, “हमारे यहां बर्ड फ्लू जैसी कोई बात नहीं है. हां, लेकिन मुर्गियों में आरडी हो गई है. इसकी वजह से मुर्गियों को मोल्डिंग पर लगाया गया है. उन्हें दवाई दी जा रही है. इसी की वजह से अंडे का प्रोडक्शन भी कम हो गया है. और रही बात बर्ड फ्लू की तो यह बीमारी देश से कब की खत्म हो चुकी है.”

यह होती है आरडी बीमारी
पोल्ट्री फार्म के मालिक अनिल शाक्या ने बताया, “आरडी बीमारी होने पर मुर्गियों का एक पैर आगे और एक पीछे की तरफ चला जाता है. मुर्गियों की गर्दन अकड़ जाती है. ऐसा होने के कुछ देर बाद ही मुर्गियां मरने लगती हैं.

क्या आप जानते हैं, ट्रेन से एक पशु के कटने पर रेलवे को होता है करोड़ों का नुकसान

लेकिन अब इसका वैक्सीन भी आ गया है. मुर्गियों को दवाई भी दी जाती है. आरडी के लक्षण दिखने पर मुर्गियों को 10 से 15 दिन तक मोल्डिंग पर रखा जाता है. इस दौरान उन्हें सिर्फ दवाई दी जाती है. मोल्डिंग में मुर्गियां अंडा नहीं देती हैं.”


<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here